कोरोना के बहाने चर्च में भीड़ जमा करने वाला पादरी गिरफ्तार. वामपंथ शासित केरल में दिखा सच्चे सेकुलरिज्म का दृश्य - Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News, Latest Khabar -

Breaking News:

कोरोना के बहाने चर्च में भीड़ जमा करने वाला पादरी गिरफ्तार. वामपंथ शासित केरल में दिखा सच्चे सेकुलरिज्म का दृश्य


इसको सच्चे रूपों में धर्मनिरपेक्षता कही जायेगी जिसमे कानून का पालन करवाने के लिए किसी प्रकार की जाति या धर्म नही देखा गया और देश को खतरे में डालने की कोशिश करने वाले पर कड़ी कार्यवाही की गई. वामपंथ शासित केरल पर आये दिन सवाल उठ रहे थे जिसको एक झटके में वहां के शासन और प्रशासन ने दिया है सटीक जवाब और कार्यवाही की है एक नामी और बड़े चर्च के पादरी के ऊपर, जिसने खुद के नियमो को देश के कानून से बढ़ कर समझने की असंवैधानिक कोशिश की थी.

ध्यान देने योग्य है कि केंद्र और राज्य सरकार की तरफ से बार बार समझाने के बाद भी अपने मंसूबो में नाकयब रहने वालों ने एक बार फिर से किया कुत्सित प्रयास. कोरोना संक्रमण के बीच केरल में चर्च के एक पादरी को चर्च में ‘प्रार्थना सभा’ कराना महंगा साबित हुआ है। पाऊली पदयट्टी नाम के इस पादरी को राज्य में कोरोना वायरस के मद्देनजर एहतियात के तौर पर जारी किए दिशा-निर्देशों के उल्लंघन के आरोप में गिरफ्तार किया गया।बता दें कि कोरोना वायरस को देखते हुए भीड़ जुटाना अपराध की श्रेणी में रखा गया है।

इसकी वजह से लोगों में संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। मगर इसके बावजूद चलाकुडी निथ्या सह्या चर्च के पादरी ने सरकार के आदेश की खुले तौर पर अनदेखी और उसी के साथ पूरी तरह से अवहेलना करते हुए एक प्रार्थना सभा का आयोजन किया, जिसमें कम से कम 100 लोगों ने हिस्सा लिया था। इसके अलावा तीन पूजा स्थलों के प्रबंधकों के खिलाफ भी शनिवार को भी मामला दर्ज किया गया था। इस मामले में केरल पुलिस ने बताया कि मंदिर, मस्जिद और गिरिजाघर के प्रबंधकों के खिलाफ ये मामले दर्ज किए गए हैं।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share