अयोध्या में सब शांति है इसे सुनिश्चित कर रही है पुलिस के बूटों की आवाज.. RAF भी उतरी


अयोध्या श्रीराम मंदिर मामले में जैसे जैसे सुनवाई की तिथि नजदीक आती जा रही है, वैसे वैसे लोगों की धडकनें तेज होती जा रही हैं. सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई 17 नवम्बर को रिटायर होने वाले हैं, ऐसे में पूरी उम्मीद है कि इससे पहले अयोध्या श्रीराम मंदिर मामले में फैसला सुना दिया जाएगा. श्रीराम मंदिर फैसले को लेकर अयोध्या में शांति रहे, इसको पुलिस के बूटों की आवाज सुनिश्चित कर रही है. किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए RAF भी तैनात कर दी गई है.

अयोध्या श्रीराम मंदिर मामले पर संभावित फैसले को लेकर उत्तर प्रदेश के एडीजी अभियोजन आशुतोष पांडे ने स्वयं अयोध्या पहुंचकर कमान संभाल ली है. अयोध्या की सुरक्षा को लेकर एडीजी अभियोजन आशुतोष पांडे ने सर्किट हाउस में पुलिस अधिकारियों के साथ मीटिंग भी की. अयोध्या की सुरक्षा में सिविल पुलिस के साथ पीएसी (PAC), आरएएफ (RAF) को लगाया गया है. इसके साथ ही एटीएस (ATS) भी अयोध्या पर नजर रख रही है. खुफिया एजेंसी को सतर्क रखा गया है. ड्रोन कैमरे से अयोध्या की निगरानी की जा रही है.

कल बुधवार को श्रीराम की नगरी अयोध्या की सड़कों पर आरएएफ की टीमें नजर आईं. सुरक्षा व्यवस्था में तैनात इन टीमों की चप्पे-चप्पे पर नजर है, जिससे किसी भी अप्रिय स्थिति से समय रहते निपटा जा सके. अयोध्या के एसएसपी आशीष तिवारी ने बताया कि अयोध्या के सभी एंट्री पॉइंट पर बैरियर लगाकर चेकिंग की जाएगी. भारी संख्या में पीएसी के जवान अयोध्या पहुंच चुके हैं. जनपद के लगभग दो सौ स्कूलों में सुरक्षाबलों को ठहराया जा रहा है. रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन, होटल, धर्मशाला सभी पर पुलिस की नजर है. उन्होंने बताया कि कि अयोध्या के चप्पे-चप्पे पर पुलिस की नजर होगी. हालांकि जिला प्रशासन कोशिश कर रहा है कि अस्पताल स्कूल खुले रहें और अयोध्या का वातावरण सामान्य रहे.

बता दें, एडीजी अभियोजन आशुतोष पांडे पूर्व में अयोध्या में हुए धर्म संसद को सकुशल संपन्न करा चुके हैं. जिससे एक बार फिर शासन ने आशुतोष पांडे पर भरोसा जताया है. साथ ही फैजाबाद पुलिस ने सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक सामग्री पर नजर रखने के लिए 16 हजार स्वयंसेवियों को तैनात किया है. वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आशीष तिवारी ने बताया कि राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर जब आदेश आयेगा, उस समय शांति कायम रखने के लिए जिले के 1,600 स्थानों पर भी इतनी ही संख्या में स्वयंसेवियों को रखा गया है. फिलहाल अयोध्या में वर्दी के बूटों की आवाज गूँज रही है तथा वर्दी किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह से अलर्ट पर है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...