रोहिंग्या तथा बंगलादेशी घुसपैठियों के समर्थन में तनकर खड़ी होने वाली कांग्रेस सरकार में पाकिस्तानी हिन्दुओं को आदेश- वापस चले जाओ पाकिस्तान वरना…


ये घटना उस कांग्रेस शासित राज्य की है जो कांग्रेस देश की आन्तरिक तथा बाहरी सुरक्षा के लिए खतरा रोहिंग्या आक्रान्ताओं की पैरोकारी करती है, देश को बुरी तरह से संक्रमित कर रहे मजहबी उन्मादी बांग्लादेशी घुसपैठियों की पैरोकारी करती है, उनके समर्थन में तनकर खड़ी हो जाती है लेकिन सेक्यूलरिज्म देखिये कि कांग्रेस शासित राज्य में पाकिस्तान प्रताड़ित होकर भारत आये हिन्दुओं को आदेश दिया जाता है कि वो हिन्दुस्तान छोडकर वापस पाकिस्तान चले जाएँ.

हम बात कर रहे हैं कांग्रेस शासित राज्य राजस्थान की, जहाँ के मुख्यमंत्री अशोख गहलोत हैं. खबर के मुताबिक़, 6 साल पहले पाकिस्तान से प्रताड़ित होकर राजस्थान के जोधपुर आकर बसने वाले हिन्दुओं को वापस पाकिस्तान भेजने के आदेश जारी कर दिए गये हैं. पाकिस्तानी हिन्दुओं का यह परिवार पाकिस्तान में हो रहे जुल्मों से मुक्ति पाने के लिए पाकिस्तान से भागकर हिंदुस्तान आ गया था. उनको यह लगा था कि हिंदुस्तान आने के बाद उनकी सारी तकलीफ है खत्म हो जाएगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ बल्कि उनके वापस पाकिस्तान भेजे जाने की तैयारी की जा रही है.

पाकिस्तान से आये इन हिन्दुओं का कहना है कि जोधपुर बहुत महंगा शहर है और खेती-बाड़ी के काम से वे अपने पुराने गांव जहां से आजादी के बाद में पाकिस्तान गए थे वहां खेती करने चले गए. इनका कहना है कि अब उनको वापस पाकिस्तान भेजे जाने का नोटिस दे दिया गया है. नोटिस में साफ़ साफ़ लिखा है कि आप लोग वापस पाकिस्तान चले जाएँ वरना आपके खिलाफ कार्यवाई की जायेगी. इस परिवार के सदस्य आंखों में आंसू लिए दर बदर की ठोकरें खा रहे हैं.

इसी परिवार की एक महिला परमेश्वरी कहती हैं कि उसके पति को पाकिस्तान भेजने के आदेश हो गए हैं. ऐसे में उसके सामने समस्या यह है कि वह अपने चार बच्चों को लेकर भारत में किसके सहारे रहेगी. परमेश्वरी ने कहा कि मेरे पति को वापस पाकिस्तान भेज रहे हैं. यहां आने के बाद हमारे दो और बेटियों का जन्म हुआ है. अब चार बेटियों के साथ यहां क्या करूंगी? हमारे पास खुदकुशी करने के अलावा कोई चारा नहीं बचा, लेकिन कलेक्टर साहब कहते हैं कि जो करना कर लो, तुम्हारे पति को भेज कर रहेंगे.

वापस पाकिस्तान जाने को तैयार नहीं हिन्दू परिवार

पाकिस्तान से आकर राजस्थान के जोधपुर में रहने वाली काजल को भी वापस पाकिस्तान जाने को कहा गया है.  काजल की आने वाले कुछ दिनों में शादी है लेकिन उन्हें पाकिस्तान जाने को कहा गया है. इस पर काजल का कहना है कि वह पाकिस्तान में सुरक्षित नहीं है. kajal का कहना है कि कि जीते जी तो वह पाकिस्तान नहीं जाएगी अगर जाएगी तो उसकी लाश जाएगी. इस परिवार का कहना है कि यदि उसके परिजनों ने वीजा की शर्तों का उल्लंघन किया है तो उसके लिए उन्हें जेल भेज दिया जाए या कानून सम्मत सजा दी जाए. लेकिन उन्हें किसी भी सूरत में पाकिस्तान नहीं भेजा जाए.

परिवार का कहना है कि पाकिस्तान जाने से अच्छा वह मौत को गले लगाना ज्यादा पसंद करेंगे. उन्होंने बताया कि पाकिस्तान में हमको धर्म के आधार पर प्रताड़ित किया जाता था, हमें अंतहीन प्रताड़नायें दी जाती थी. इसके बाद हम बड़ी उम्मीदों के साथ भारत आये थे कि भारतमाता की गोद में हमें आश्रय मिलेगा लेकिन अब हमें वापस भेजा जा रहा है. इस परिवार ने पीएम मोदी, गृहमंत्री शाह तथा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से अपील की है कि उन्हें भारत की जेल में डाल दिया जाए लेकिन वापस पाकिस्तान न भेजा जाए क्योंकि वहां उनकी जिन्दगी नरक हो जायेगी.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share