नहीं देता हूँ दलितों को किराए पर बर्तन या टेंट का कुछ भी सामान- टेंट हाउस मालिक इकबाल.. और फटकार कर भगा दिया मनोज वाल्मीकि को


पिछले कुछ वर्षों से देश में दलित-मुस्लिम की नई सियासत गढ़ने की कोशिश की जा रही है. तथाकथित बुद्धिजीवियों तथा वोट के सौदागरों द्वारा “जय भीम जय मीम” का नारा बुलंद किया जा रहा है. कहने को तो ये नारा राजनैतिक है लेकिन इसका मुख्य लक्ष्य हिन्दू समुदाय में विघटन पैदा करना है. दलित समाज की स्वघोषित ठेकेदार बीएसपी प्रमुख मायावती तथा मुस्लिमों के रहनुमा बनने का दावा करने वाले ओवैसी भी दलित मुस्लिम एकता की बातें करते नहीं थकते हैं.

लेकिन जय भीम जय मीम तथा दलित मुस्लिम एकता की हकीकत क्या है इसकी बानगी उत्तर प्रदेश के बरेली में देखने को मिली है जहाँ टेंट हाउस मालिक इकबाल ने मनोज वाल्मीकि को टेंट के बर्तन देने से ये कहते हुए मना कर दिया कि वह दलितों को बर्तन या टेंट का कुछ भी सामान किराए पर नहीं देता है. मनोज वाल्मीकि की शिकायत पर आरोपी इकबाल के खिलाफ एससीएसटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है. आरोपी फरार बताया जा रहा है.

मामला फरीदपुर के नौगवां का है. खबर के मुताबिक़, रविवार को मनोज कुमार वाल्मीकि की बहन की गोद भराई होनी थी. शनिवार सुबह 10 बजे मनोज टेंट का सामान लेने के लिए गांव की ही मुश्ताक टैंट हाउस पर पहुंचे. आरोप है कि टेंट हाउस मालिक इकबाल ने उन्हें बर्तन आदि सामान देने से यह कहते हुए मना कर दिया कि मेरी दुकान से वाल्मीकियों के घर में आयोजन के लिए कोई भी सामान नहीं जाता है. मनोज ने विरोध किया तो टेंट मालिक ने जाति सूचक शब्दों का प्रयोग किया कर भगा दिया.

इसके बाद शनिवार शाम मनोज कई ग्रामीणों के साथ तहरीर लेकर कोतवाली पहुंचे तथा मामला दर्ज कराया. मनोज की शिकायत पर पुलिस ने  इकबाल के खिलाफ एससीएसटी का मुकदमा दर्ज कर लिया. आरोपी इकबाल फरार बताया जा रहा है. पुलिस आरोपी की गिरफ्तारी के लिए दबिश दे रही है. मामले पर सीओ फरीदपुर का कहना है कि मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. पूरे प्रकरण की जांच की जा रही है. आरोपी को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share