हिन्दू और हिंदुत्व का कई अपमान कर के कभी माफ़ी न मांगने वाले शशि थरूर ने केजरीवाल पर दिए बयान पर मांगी माफ़ी


ये कांग्रेस के कद्दावर नेताओं एयर गांधी परिवार के करीबियों में गिने वो शशि थरूर हैं जिन्होंने अपने राजनैतिक जीवन में अगर किसी को सबसे जायदा निशाने पर लिया है तो वो है भगवा , हिन्दू , हिंदुत्व और इन सबकी आवाज उठाने वाले लोग.. इन्होने ऐसे ऐसे बयान दिए हैं जैसे शायद पाकिस्तान ने भी न दिए हों , उदहारण के लिये हिन्दू तालिबान जैसे शब्द.. लेकिन क्या मजाल कि कभी इन्होने अपने कदम पीछे खींचे हो अपने किसी भी बयान से और माफ़ी मांगी हो.

लेकिन ये देश के लिए एकदम नई बात और नया अनुभव है कि शशि थरूर ने माफ़ी मांगी है और वो भी किसी हिन्दू समूह या हिन्दू भावनाओ के लिए नहीं बल्कि अरविन्द केजरीवाल के खिलाफ दिए गये बयान के बाद. अरविन्द केजरीवाल के खिलाफ दिए गये बयान से कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व उनसे काफी नाराज था जिसके चलते उन्हें घुटने टेकने पड़ गये. अब सवाल ये भी बनता है कि क्या बाकी बयानों में कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व उनसे नाराज नहीं हुआ था जबकि उन्होंने हिन्दुओं पर न जाने कितने बयान दे डाले.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की आलोचना करते हुए उनके बारे में एक विवादित टिप्पणी करने को लेकर मंगलवार को माफी मांगी और कहा कि उन्होंने सिर्फ ब्रिटिश राजनीति के एक पुराने कथन का उल्लेख किया था। केजरीवाल के बारे में अपनी टिप्पणी पर सफाई देते हुए थरूर ने ट्वीट किया कि मैं उन सभी लोगों से माफी मांगता हूं जिन्हें मेरा बिना जिम्मेदारी की सत्ता वाला बयान पसंद नहीं आया। यह ब्रिटिश राजनीति का एक पुराना कथन है जो किपलिंग, प्रधानमंत्री स्टेनली बाल्डविन और हाल ही में टॉम स्टॉपर्ड द्वारा बोला गया था।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share