राजपूतों को बदनाम करने की गहरी साजिश.. शादी डॉट कॉम पर अनीशा राजपूत असल में निकली अहमद मुश्ताक की बेटी पर तब तक हो चुका था नुकसान

लव जिहाद के तमाम मामले आपने पहले भी सुने होंगे जिसमे अपना नाम बदल कर हिन्दू लडकियों के जीवन को बर्बाद कर दिया जाता है और जब तक उन्हें कुछ समझ में आता है तब तक काफी देर हो चुकी होती है . इसके अलावा पंडित उपमान लगा कर अपराध करने वाले एक मुस्लिम अपराधी को बरेली पुलिस ने गिरफ्तार किया था . कुछ समय पहले प्रतापगढ़ जिले में भी भगवा पहन कर अपराध करने के मामले में एक मुस्लिम युवक की गिरफ्तारी हुई थी .

लेकिन इस बार जो हुआ वो सबसे अलग और अनोखा था . यद्दपि ये घटना कईयों को सबक देने के लिए काफी है . इस घटना में सबसे पहले शादी के लिए जीवन साथी डॉट काम पर एक मुस्लिम युवती ने खुद को क्षत्राणी अर्थात राजपूत बन कर एक हिन्दू युवक को प्रपोज किया. इतना ही नहीं , उसने बाकायदा हिन्दू रीति रिवाज से शादी भी रचाई और अंत में शादी के बाद ससुराल से मिला सोना और शगुन के पैसे लेकर गायब हो गई।

अनीशा असल में एक छद्म नाम था जो कश्मीर की रहने वाली है . इसके अब्बा का नाम अहमद मुश्ताक है जो अपनी बचत में केवल इतना कह रहे हैं कि उनका अपनी बेटी से कोई लेना देना नहीं रहा . इस बार अहमद मुश्ताक की बेटी का शिकार बने हैं राजेश भाटिया जिन्होंने अपने दुबई रहते बेटे की शादी के लिए उन्होंने जीवनसाथी डॉट काम पर प्रोफाइल बनाई थी। उनका बेटा दुबई में रहता  थे जिस के कारण उनकी सोच और मानसिकता में कहीं से भी हिन्दू या मुस्लिम का कोई भाव नहीं था और वो सबको बराबर समझते थे . कुल मिला कर वो वो धर्मनिरपेक्ष इंसान थे पर उन्हें पता नहीं था कि उनके साथ क्या होने वाला है .

अनीषा राजपूत बनी अहमद मुश्ताक की बेटी की उसी प्रोफाइल पर रिक्वेस्ट आई। इसके बाद दोनों के बीच बातचीत भी शुरू हो गई। इसी दौरान बेटे ने दुबई से उन्हें फोन किया कि अनीषा घर देखने के लिए आना चाहती है। घर देखने के बाद अनीषा ने शादी के लिए हां कर दी। शादी दयानंद धाम आर्य समाज में हुई। 15 दिन के बाद उनका बेटा दुबई चला गया। दो दिन के बाद ही अनीषा भी चंडीगढ़ के लिए रवाना हो गई और उसके बाद कभी नहीं आई। पता चला कि आरोपी अनीषा मंगलसूत्र, गोल्ड व सोने के गहने, शादी का शगुन और महंगे कपड़े भी लेकर चली गई है। पूछताछ में पुलिस को पता चला कि उसके अब्बा कश्मीर में रहते थे . पूछताछ में बात सामने आई कि उनकी लड़की का यह पहला शिकार नहीं था। अहमद मुश्ताक की बेटी इस से पहले भी कई लड़कों को शादी करके लूट चुकी है और शादी के गहने इकट्ठे करके फरार हो जाती है। सवाल ये भी बनता है कि अहमद मुशताक की बेटी राजपूतों के उपनाम का दुरूपयोग क्यों कर रही है और अगर अहमद मुश्ताक अपनी बेटी से सच में अलग हैं तो उन्होंने  इसकी जानकारी पुलिस को क्यों नहीं दी .. ? सवाल और भी है कि कहीं ये कोई बड़ी साजिश तो नहीं है राजपूतों के खिलाफ ?

Share This Post