Breaking News:

इस्लामिक आतंकी दल तालिबान बोला – “हाँ, हम हैं जिम्मेदार अमेरिकी विमान गिराने और उनके 100 अधिकारियों की मौत के”..


ये एक बड़ा धोखा है संसार की सबसे बड़ी महाशक्ति के साथ क्योकि कुछ समय पहले ही तालिबान के साथ उनकी शांति वार्ता चली थी. तालिबान के कुछ बड़े पदाधिकारियों ने उसमे हिस्सा लिया था और अमेरिकी सेना के प्रमुख सदस्यों ने भी उसमे सहभागिता की थी. तब ऐसा माना जा रहा था कि वर्षो से चला आ रहा ये विवाद किसी स्थाई समाधान की तरफ बढ़ रहा है लेकिन आखिरकार तालिबान ने फिर से की है वो हरकत जिसके बाद अमेरिका के साथ दुनिया के हर देश को अपनी नीति को बदलने पर मजबूर होना पड़ेगा.

अफ़ग़ानिस्तान के ग़ज़नी प्रांत में तबाह होने वाला विमान सीआईए का था और तालिबान ने इसे मार गिराने का दावा किया है।काबुल से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार सूत्रों ने बताया है कि अफ़ग़ानिस्तान के ग़ज़नी प्रांत के ज़िला दहयक में तबाह होने वाला विमान इ-11 का था जो आम तौर पर अमरीकी सैनिक प्रयोग करते हैं। तालिबान के प्रवक्ता ने उक्त विमान को मार गिराने की ज़िम्मेदारी स्वीकार करते हुए दावा किया है कि विमान में सवार अमरीकी ख़ुफ़िया एजेन्सी के कई वरिष्ठ अधिकारी सहित समस्त अमरीकी सैनिक मारे गये।

एनबीसी न्यूज़ ने एक अफ़ग़ान अधिकारी के हवाले से बताया है कि लगभग 100 लोगों के शव ज़मीन पर बिखरे हुए हैं और बाक़ी के तलाश किए जा रहे हैं। ग़ज़नी के गवर्नर हाऊस के प्रवक्ता आरिफ़ नूरी का कहना है कि घटना इतनी भयानक थी कि लोगों के शवों की पहचान मुश्किल है। इस्लामिक आतंकी दल तालिबान के प्रवक्ता ज़बिहुल्लाह मुजाहिद ने एक बयान जारी करके कहा है कि, अफ़ग़ानिस्तान के गज़नी राज्य में अमेरिका की बदनाम ज़माना ख़ुफ़िया एजेंसी सीआईए के उच्च अधिकारियों को लेकर जा रहा एक विमान गिरकर तबाह हो गया है। तालेबान के अनुसार विमान में सवार सभी यात्री मारे गए हैं।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share