जुमे के नमाजियों से भरी मस्जिद में हुए ब्लास्ट में वो इमाम भी मरे जिनके पीछे बाकी सब पढ़ रहे थे नमाज़


आतंक किसी का भी सगा नहीं है इसको पाकिस्तान से बेहतर शायद अब कोई नही समझ सकता. जिन नागों को उसने जी भर के दूध पिलाया किसी और के ऊपर जहर उगलने के लिए अब वही बारी बारी उसी को डसने लगे हैं. जो पाकिस्तान कभी दूसरे देशो में अपने आतंकी भेज कर अन्य धर्मस्थलों में बारूद से धमाके करवाता था अब उसी पाकिस्तान की मस्जिदें और उनके नमाज़ी उन्ही के आतंकियों के निशाने पर आ चुके हैं. ताजा मामला अशांत क्वेटा से आया है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार बलूच विद्रोहियों के हमले से लगातार लहुलुहान हो रहा पाकिस्तान एक बार फिर से रक्त से लाल हो गया है.  पाकिस्तान में बलूचिस्तान प्रांत के क्वेटा शहर में एक मस्जिद में हुए धमाके में कम से कम 15 लोगों की मौत हो गई है और 21 घायल हैं. क्वेटा के डीएसपी अमानुल्लाह भी इस हमले में मारे गए हैं. क्वेटा में सिविल हॉस्पिटल के एक प्रवक्ता ने बीबीसी को बताया कि घायलों में कई लोगों की हालत गंभीर है जिसके चलते मृतको की संख्या में और बढ़ोत्तरी होने का अनुमान है.

बलूचिस्तान के गृह मंत्री जिया लंगोवे ने घटना पर नाराजगी जाहिर की। उन्होंने कहा- मृतकों की संख्या अभी बढ़ सकती है, क्योंकि कई लोग गंभीर रूप से घायल हैं। हालांकि, घायलों के इलाज में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। गृह मंत्री ने कहा,‘‘आतंकी पाकिस्तान के विकास से डर गए हैं। अंदर और बाहर के दुश्मन देश में भय और अशांति का माहौल बनाने की विफल कोशिश कर रहे हैं। हारे हुए आतंकियों को कभी सफल नहीं होने दिया जाएगा।’’


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share