भारत में क्रिकेटर भले ही कभी धर्म का नाम न लेते हों लेकिन पाकिस्तान में अफरीदी निकला ऐसा चरमपंथी


भारत में शायद ही किसी भी क्रिकेटर को अपने धर्म, आस्था, पूजा पद्धति आदि के बारे में बात करते हुए कभी देखा गया होगा. चूँकि भारत में क्रिकेट इतना ज्यादा लोकप्रिय है कि सिर्फ भारतीय क्रिकेटर ही नहीं बल्कि दुनियाभर के क्रिकेटरों के भारत में फैन हैं. पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर शाहिद आफरीदी के भी भारत में काफी फैन हैं, जिसमें मुस्लिम ही नहीं बल्कि हिन्दू भी हैं. जिस शाहिद आफरीदी के भारत के तमाम लोग दीवाने हैं उसकी वो चरमपंथी सोच सामने आई है, जिसके बारे में आपने सोचा नहीं होगा.

बता दें कि पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर शाहिद आफरीदी का एक वीडियो सामने आया है जिसमें वह हिन्दू पूजा पद्धति के खिलाफ जहर उगलते हुए नजर आ रहे हैं. ये वीडियो पाकिस्तान के टीवी चैनल का है जहाँ एक महिला होस्ट ने शाहिद आफरीदी का इंटरव्यू लिया था. इसी इंटरव्यू के दौरान शाहिद आफरीदी ने हिन्दुओं द्वारा भगवान की आरती करने का न सिर्फ मजाक उड़ाया बल्कि हिन्दू पूजा पद्धति को लेकर अपनी जहरीली सोच भी बयान की.

वीडियो में आफरीदी कहता हुआ नजर आ रहा है कि उसने एक बार अपने घर का टीवी तोड़ा, लेकिन ‘बेगम’ की वजह से ऐसा किया. अफरीदी वीडियो में कहता है पहले हमारे घरों में टीवी चैनलों के ड्रामे चला करते थे, मैं बेगम को मना करता था कि आप अकेले में टीवी देखा करो, बच्चों को ना दिखाया करो. वीडियो में आफरीदी आगे कहता है कि मैं एक दफा घर आया, जब कमरे से बाहर निकला तो देखा कि बेटी टीवी चैनल के सामने पता नहीं, क्या करते हैं थाली लेके यूं यूं..’

अफरीदी इस दौरान हाथ में थाली पकड़ने का इशारा करता है तब ऐंकर उन्हें बताती हैं कि इसे ‘आरती’ करना कहते हैं. इसके बाद आफरीदी ने जो कहा वो हिंदुस्तान के उन लोगों को आईना है जो आफरीदी के फैन हैं. अफरीदी ने आगे कहा कि उन्हें अपनी बेटी को ऐसा(आरती) करते देखकर काफी गुस्सा आया और उन्होंने अपना हाथ मारकर टीवी को तोड़ दिया. आफरीदी ने कहा कि जब उनकी बेटी आरती की थाली की तरह हाथ घुमा रही थी तो वह गुस्से से भर उठे थे फिर उन्होंने टीवी तोड़ दिया था.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share