हनुमान चालीसा में शामिल हुई मुस्लिम महिला को आदेश मिला है घर छोड़ देने का.. कहाँ है सेक्यूलरिज्म ?

क्या ये वही सेक्यूलरिज्म है जिसकी दुहाई न सिर्फ संपूर्ण विपक्ष बल्कि देश के कथित बुद्धिजीवी तथा खान मार्केट गैंग के सदस्य आये दिन देते हैं ? पश्चिम बंगाल बीजेपी की नेता इशरत जहाँ ने भी उनके सेक्यूलरिज्म को अपनाया, उसने सांप्रदायिक सद्भाव का सन्देश देने की कोशिश की, हिन्दू-मुस्लिम एकता को मजबूत करने का प्रयास किया तथा हनुमान चालीसा पाठ में शामिल हुई लेकिन इशरत जहाँ का हनुमान चालीसा पाठ में शामिल होना मजहबी कट्टरपंथियों को रास नहीं आया तथा उनके खिलाफ तनकर खड़े हो गये.

संभल के बलिदानियों का अंतिम संस्कार थोडा रुक कर करना साहब.. बॉर्डर स्कीम लगाई है आपने, बलिदानियों के घर वालों को आने में देर लगेगी

खबर के मुताबिक़, पश्चिम बंगाल की बीजेपी नेता इशरत जहां का आरोप है कि उन्हें हनुमान चालीसा पाठ में शामिल होने पर घर खाली करने को कहा गया है. इशरत ने जान से मारने की धमकी मिलने की बात कहते हुए सुरक्षा की मांग की है. उन्होंने कहा कि वह अपने बेटे के साथ अकेले रहती हैं और उनके साथ कभी भी कुछ भी हो सकता है. इशरत ने बताया कि वह हावड़ा में किराये के मकान में रहती हैं लेकिन एक हिंदू धार्मिक कार्यक्रम में शामिल होने की वजह से उनके मकान मालिक ने उन्हें घर खाली करने को कहा है नहीं तो उन्हें जबरन निकाल दिया जाएगा.

UP के हाथरस में जहाँ शुक्रवार को सड़कों पर होती थी नमाज, अब वहीं होगा हर मंगलवार को हनुमान चालीसा का पाठ

इशरत जहां ने कहा कि मुझे नहीं लगता कि मैंने धार्मिक आयोजन में शामिल होकर कुछ गलत किया है. मैं कुछ गलत करने के लिए नहीं गई थी, वहां मंदिर में लोग पाठ कर रहे थे मैं उसमें शामिल होने गई थी. इशरत ने बताया कि हनुमान चालीसा पाठ में शामिल होने के बाद वह अपने घर आई तो उनके घर के बाहर भारी संख्या में लोग इकट्ठा हो गए और पूछने लगे कि मैं हिजाब पहनकर हनुमान चालीसा पाठ में शामिल होने क्यों गई थी?’ इशरत ने बताया कि उनके हनुमान चालीसा पाठ में शामिल होने पर लोगों ने आपत्ति जताई तथा उन्हें धमकाया.

मजहबी उन्माद का प्रतीक बन गया तथाकथित अभिनेता और कट्टरपंथी एजाज़ खान मुंबई में गिरफ्तार

इशरत ने आगे पुलिस सुरक्षा की मांग करते हुए बताय कि उन्हें कहा गया है कि मुझे खुद से घर छोड़ देना चाहिए नहीं तो मुझे जबरन घर से निकाल दिया जाएगा. मुझे जान से मारने की धमकियां मिल रही हैं. इशरत ने आगे कहा कि मैं अपने बेटे के साथ अकेले रहती हूं, मेरे साथ कभी भी किसी भी समय कुछ भी हो सकता है. बता दें कि इशरत तीन तलाक की याचिकाकर्ता भी हैं. उन्होने सुप्रीम कोर्ट में तीन तलाक के खिलाफ याचिका दायर की थी, तभी से वह कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं. इशरत पिछले साल ही बीजेपी में शामिल हुई थीं.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

Share This Post