हो जाए सावधान! अगर अब नशा करना नहीं छोड़ा तो गवां देंगे अपनी जान, तम्बाकू से होते हैं 40 तरह के कैंसर

बढ़ती उम्र के साथ-साथ युवाओं में नशे की लत भी बढ़ती जा रही है। वैसे तो नशे में कई पदार्थो का सेवन किया जाता है, पर जिसका सेवन सबसे ज्यादा किया जाता है वो है तम्बाकू। तम्बाकू की लत युवाओं में बहुत तेजी से बढ़ती जा रही है। जिसकी वजह से देश भर में रोज 2200 लोगों को अपनी जान से हाथ गवाना पड़ता है। क्या आपको पता है कि, तम्बाकू व इससे बने उत्पादों से 40 तरह के कैंसर होते है। 
नशा मुक्ति केंद्र डॉ. अजय वर्मा ने बताया की धूम्रपान दमा और टीबी का कारण बनता है। तम्बाकू का सेवन करने से 95 प्रतिशत मुँह का केंसर और पायरिया का खतरा बढ़ता है। केन्द्रीय होम्योपैथिक चिकित्सा परिषद के सदस्य डॉ. अनिरुद्ध वर्मा ने लोगों को नशे से होने वाली बीमारियों को लेकर जागरूक किया। उन्होंने नशे की लत लगे लोगों को मुक्ति दिलाने की बात कहते हुए, तम्बाकू और तम्बाकू से बने पदार्थो पर रोक लगाने की मांग की है। उन्होंने बताया की सिगरेट पिने से हमारी 5 मिनट की उम्र कम हो जाती है।  
डॉ. के मुताबिक, देश भर में हर साल करीब 12 लाख नए मरीज सामने आते है। इसमें तीन से चार लाख केवल मुँह व गले के कैंसर के मरीज होते है। तम्बाकू के सेवन से 80 प्रतिशत लोगों में कैंसर होता है, जबकि हर साल 42 हजार लोगों की मौत मुँह के कैंसर होने के कारण होती है। छ साल पहले हुए एक सर्वे के मुताबिक, तम्बाकू से होने वाले कैंसर मरीजों की संख्या करीब दो लाख तक थी। जबकि साल 2012-2013 में इसकी संख्या तीन से चार लाख हो गयी थी। विशेषज्ञों ने तम्बाकू-सिगरेट की बिक्री पर लाइसेंस जारी करने के प्रस्ताव को केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय को भजने की बात कही है।  
Share This Post