2 बच्चों के कानून पर योगी शासन का पहला कदम.. कन्या सुमंगला योजना से हुई शुरुआत.. सुरेश चव्हाणके जी के प्रयास सफल अंजाम की तरफ

बिना खाने की चिंता व बिना सोने की फिक्र किये हुए, देश की उन्नति व जनसँख्या के संतुलन को बनाये व बचाये रखने के लिये आखिरकार सुदर्शन न्यूज के प्रधान संपादक व राष्ट्र निर्माण संस्था के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी के प्रयास सफलता की तरफ अग्रसर हो गए हैं .जन जन तक बात पहुचाने के लिए जम्मू से कन्याकुमारी तक तमाम अवरोधों के बाद भी कई विषम हालात में जाने वाले चव्हाणके जी की बुलन्द आवाज को अब उत्तर प्रदेश सरकार ने एक योजना में आख़िरकार लागू ही कर दिया है .

ऐसा कदम उठाने के बाद योगी आदित्यनाथ की दृढ़ता और दूरदर्शिता की हर तरफ प्रशंसा हो रही है . ऐसा माना जा सकता है कि भविष्य में उत्तर प्रदेश हम २ हमारे २ तो सबके २ नियम का पायलट जिला बन सकता है क्योकि खुद योगी आदित्यनाथ कभी जनसंख्या नियंत्रण कानून के सख्त पक्षधर हुआ करते थे . कन्या सुमंगला योजना का फायदा उन परिवारों को ही मिलेगा जिनके केवल दो बच्चे ही है। हालांकि अगर पहली बार जुड़वा बच्चियां पैदा होती है और दोबारा भी बच्ची ही पैदा होती है,वह योजना का लाभ पाने के लिए पात्र होंगी।

महिला कल्याण मंत्री प्रोफेसर रीता बहुगुणा जोशी ने रविवार को बताया कि इससे परिवार नियोजन को बढ़ावा मिलेगा। कन्या भ्रूण हत्या जैसी कुप्रथा से निजात मिलेगी। इनमें से आधे परिवार योजना के दायरे में आएंगे। लाभ सिर्फ उनको ही मिलेगा जो प्रदेश के मूल निवासी हैं। सरकार ने योजना के पहले चरण के लिए बजट में 1200 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है। उन्होंने बताया कि महिलाओं के प्रति ङ्क्षहसा रोकने के लिए बने लखनऊ के वन स्टॉप सेंटर की परफॉरमेंस पूरे देश में सर्वश्रेष्ठ रही। आठ मार्च को दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सेंटर को पुरस्कृत करेंगे। योगी सरकार के    इस एतिहासिक फैसले के बाद अन्य राज्यों से भी आशा की जा  रही है कि वो जल्द ही इस दिशा में अग्रसर होंगे और देश को जनसंख्या विस्फोट से बचाने के लिए अपने स्तर से कड़े कदम उठायेगे .

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW