पूरा देश सराहना कर रहा बिहार की राजधानी के उस कालेज की जिसने कैम्पस में बैन कर दिया है बुर्का


ये वो मांग है जिसके लिए कई बिंदास बोल में सुरेश चव्हाणके जी ने आवाज उठाई थी. अगर अन्तराष्ट्रीय स्तर पर देखा जाय तो कई बार बुरका या नकाब की आड़ में कई आतंकी हमले हुए हैं जिसमे भारी जन धन की हानि हुई है. कुछ ऐसे मामले हैं जब अपराधी पुलिस को चकमा देने के लिए बुरका दुरूपयोग में लाये थे. फिलहाल देश के मन की मांग को बिहार में ठीक से समझा गया है और एक प्रसिद्ध शिक्षण संस्थान में बुर्का या नकाब जैसा कुछ भी चेहरा ढंकने का पहनावा बैन हो गया है.

ये साहसिक निर्णय लेने वाले कालेज का नाम जे डी वीमेंस कालेज है जो बिहार की राजधानी पटना में स्थित है. कालजे में वेश को ले जार अनुशासन कडा करते हुए अब कॉलेज में पिछले दो दिनों से जारी नोटिस में साफ कहा गया है कि शुक्रवार तक सभी छात्राओं को निर्धारित ड्रेस कोड में ही आना है, हालांकि सप्ताह में एक दिन वेश की छूट देते हुए कालेज प्रशासन ने शनिवार का दिन छूट के तौर पर रखा है और इस दिन वहां पढने वाले किसी भी वेश में कालेज आ सकते है.

नए सेशन के ओरिएंटेशन के समय में छात्राओं को यह बताया गया था कि हमने यह नियम छात्राओं में एकरूपता लाने के लिए किया है, न कि समाज में भेदभाव लाने के लिए। शनिवार के दिन वह कोई भी ड्रेस पहनकर आ सकती हैं, लेकिन शुक्रवार तक उन्हें जारी ड्रेस कोड में आना होगा। साथ ही यह भी कहा गया है कि अगर किसी छात्राओं ने यह नियम का उल्लंघन करता है तो उन्हें 250 रुपए का जुर्माना देना होगा। प्रशासन समेेेत इन संगठनों ने दिया बयान जेडी वीमेंस कॉलेज के प्राचार्या डॉ. श्यामा राय ने कहा कि इस नियम की घोषणा हमने पहले ही कर दी थी।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share