क्रिकेट जगत से आई CAA को लेकर वो आवाज, जिसे माना जा रहा है स्वर्णिम भारत का सुखद भविष्य


नागरिकता संशोधन अधिनियम CAA को लेकर जारी राजनैतिक गतिरोध के बीच भारतीय क्रिकेट जगत से वो आवाज आई है जिसे राष्ट्र की आवाज माना जा रहा है. खबर के मुताबिक़, भारतीय क्रिकेट टीम के कोच रवि शास्त्री ने  नागरिकता संशोधन अधिनियम CAA का समर्थन किया है. उन्होंने कहा कि भारतीय नागरिकों को संयम के साथ इस बारे में विचार करना चाहिए. रवि शास्त्री ने कहा कि उन्हें लगता है कि इस कानून से लंबे समय में ‘काफी सकारात्मक’ चीजें देखने को मिलेंगी.

शास्त्री ने कहा कि मैं भारत के लिए तब से खेल रहा हूं, जब 18 साल का था. मेरी टीम में हर तरह के लोग थे, अलग-अलग जाति, अलग धर्म. जरा सोचिए भारतीय. सरकार ने इस बारे में जरूर सोचा होगा. रवि शास्त्री ने कहा है कि उन्हें विश्वास है कि सरकार ने कानून बनाने से पहले सोचा होगा. शास्त्री ने कहा कि जब मैंने CAA और इसके आसपास की चीजों को देखा तो एक भारतीय के तौर पर देखा. मेरी टीम में सभी तरह के लोग हैं जो अलग-अलग जाति और धर्मों से आते हैं, लेकिन हैं सभी भारतीय ही. मैंने सभी को कहा है कि इस पर धैर्य बनाए रखिए. मैं लंबे समय में इससे निकलने वाली बहुत सारी सकारात्मकता देख सकता हूं.

भारतीय क्रिकेट टीम के हेड कोच रवि शास्त्री ने आगे कहा कि मैं आश्वस्त हूं कि सरकार ने इस बारे में सोच विचार कर फैसला किया होगा. अभी भी कुछ चीजें यहां और वहां ट्विस्ट की जानी हैं और वे इसे भारतीयों के लाभ के लिए करेंगे. मैं यहां किसी भी धर्म के बारे में बात नहीं कर रहा हूं क्योंकि मैं भारतीय के नाते बोल रहा हूं. मैं ऐसा ही रहा हूं और मैंने ये सब तब ज्यादा महसूस किया जब मैं अपने देश के लिए खेलता था. इसलिये मुझे बतौर भारतीय इस पर बोलने का अधिकार है.

जब उनसे पूछा गया कि कुछ लोगों को यह डर सता रहा है कि इससे उन्हें भारतीय और गैर-भारतीय बना दिया जाएगा तो उन्होंने कहा कि मैंने गहराई से इसे नहीं पढ़ा है, लेकिन वही कह रहा हूं जो मुझे लगता है. भारतीयों को संयम के साथ सोचना चाहिए, हर किसी के लिए फायदा है. शास्त्री ने कहा कि मैं कहूंगा कि आप संयम रखिये क्योंकि मुझे लंबे समय में इससे काफी सकारात्मक चीजें निकलती हुई दिख रही हैं. उन्होंने कहा कि मुझे पूरा भरोसा है कि सरकार ने इसके बारे में उचित रूप से सोच विचार किया है. उन्होंने कहा कि कुछ चीजें अब भी हैं जिनमें थोड़ा सा यहां-वहां बदलाव किया जाना है और भारत सरकार भारतीयों के फायदे के लिए ऐसा करेगी.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share