पुतिन और ट्रंप भी देख रहे हैं ध्यान से दुनिया में शक्ति के रूप में एक नए व्यक्ति के उदय को

भारत की आन मान और शान कही जाने वाली कश्मीर की वादियों में अब विशुद्ध रूप से भारत का ध्वज लहराएगा और वो दिल्ली के पूर्ण अधीन कर कार्य करेगी . अब वहां भारत माता की जय और वन्देमातरम के नारे आपको सडको और गलियों में गूंजते दिखाई देंगे और कश्मीर हिन्दुओ की भजन आरती उन गलियों में सुनाई देगी जहाँ पर आज़ादी के नारे लगा करते थे.. कश्मीर बदल रहा है और उसी कश्मीर के साथ पूरा भारत भी एक नई राह पर निकल पड़ा है .

आज शांति मिली श्यामा प्रसाद मुखर्जी की आत्मा को.. “जहाँ हुए थे बलिदान मुखर्जी” … अब वो कश्मीर हमारा है

भारत की इस आमूलचूल दिशा और दशा के बदलाव के सारथी बने हैं भारत के प्रधानमन्त्री श्री नरेन्द्र मोदी जी . बेहद विपरीत हालात में भारत की बागडोर अपने हाथो में लेने वाले नरेंद्र मोदी ने तमाम विरोधो और बाधाओं को पार करते हुए ऐसे फैसले लेने शुरु कर दिए हैं जो सिर्फ भारत वालों के लिए ही नहीं बल्कि दुनिया वालों के लिए एक नजीर बन गये हैं और दुनिया की महानतम शक्तियों को ये मानना पड़ा है कि अब भारत वो पहले वाला नहीं रह गया है जिसे वो कुछ दशक पहले जानते थे .

विपक्ष भूल गया “फेंकू” शब्द.. सब एक साथ चौंक कर बोले – “अरे ये क्या हो गया” ?

चीन को पीछे धकेलने, अमेरिका से आँख में आंख डाल कर बात करने ,रूस को अपनी तरफ आने पर मजबूर करने , इजरायल से रिश्ते प्रगाढ़ करने के बाद अब कश्मीर में धारा 370 को खत्म करने वाले नरेंद्र मोदी पर दुनिया भर की नजरें हैं जिनसे लगातार 10 वर्षो से पाकिस्तान पनाह मांग रहा है और दुनिया भर में मिथ्या प्रलाप कर रहा है . निश्चित तौर पर ये उस भारत के उदय के लक्षण हैं जिसका स्वप्न करोड़ो राष्ट्रभक्तों ने कभी देखा था जिसके नायक नरेन्द्र मोदी हैं .

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

Share This Post