गाय खाने की जिद पाले गौभक्षको को शिक्षा दे गया मासूम. घायल चूजे को ले कर अस्पताल पंहुचा और 10 रूपये दे रोते हुए बोला- “इसे ठीक कर दो”


मानवता की बात , इंसानियत की दुहाई अगर उनके द्वारा दी जाय जिनके हाथ खून से रंगे हों तो कहीं न कहीं इसको दोहरा चरित्र ही कहा जाएगा और उसी को मुह में राम बगल में छूरी वाली कहावत कहते हैं .. फिलहाल पिछले कुछ समय से भारत में गाय खाने की जिद करने वालों ने सडक से संसद तक हर वो कोशिश कर डाली जिसके कारण गाय को बचाना और यहाँ तक कि गाय को पालने वाले लोगों पर भी सवालिया निशान तथाकथित बुद्धिजीवी लगाने लगे थे .

वोटों के लिए पहुचे इस स्तर तक. मोदी के खिलाफ ताल ठोंक रही एक पार्टी के मुस्लिम विधायक ने मसूद अजहर को कहा “साहब”

लेकिन उन सभी को इंसानियत और मानवता की शिक्षा एक मासूम दे गया है . एक ऐसा बच्चा जिसको अभी दुनिया के बारे में बहुत ज्यादा पता नही है लेकिन उसने वैदिक नियमो का पालन किया . वैदिक नियम वो हैं जो ये बताते हैं कि हर वो जन्तु जिसमे जीव या आत्मा हो, उसको पीड़ा देना पाप है .. यद्दपि कुछ ऐसे भी लोग हैं जो सब कुछ मार कर खा जाना भी अपना हक समझते हैं और इसको इंसानियत का एक पहलू भी , जो अजीब और हास्यास्पद भी है .

चीन के जिन मुसलमानों से चीनी दरिंदगी पर खामोश रहा इस्लामिक जगत, उसी मुद्दे को उठाया ऐसे देश ने जिसको कई मुस्लिम देश मानते हैं अपना दुश्मन

बच्चे ने यकीनन वैदिक आदेशो की पुस्तकें नहीं पढ़ी रही होंगी पर उसने जो किया वो ये साबित करता है कि एक मासूम बच्चा इश्वर का रूप होता है . भले ही बाद में उसको कहीं कुछ पढ़ा कर कट्टरपंथ और चरमपंथ के राह पर कोई ले जाए . मिजोरम का वो मासूम बच्चा यकीनन इश्वर के ही रूप का प्रतीक था .. मिजोरम के साईरांग में देखने को मिला जहां एक नन्हा बच्चा एक मुर्गी के घायल चूजे को लेकर अस्पताल पहुंचा। उसके पास चूजे के इलाज के लिए सिर्फ 10 रुपये थे और आंखों में उसे न बचा पाने का डर। इंसानों के अस्पताल में चूजे को इलाज के लिए ले आना वो भी हाथ में सिर्फ 10 रुपये लेकर।

4 अप्रैल- 1857 क्रान्ति की रणचंडी वीरांगना झलकारी बाई ने आज ही युद्ध भूमि में प्राप्त की थी वीरगति.. क्या सच में मिली आज़ादी “बिना खड्ग बिना ढाल” ?

ऐसे में अस्पताल में कोई उसकी मासूमियत पर मुस्कुरा दिया तो कोई बच्चे का ऐसा साफ दिल देखकर भावुक हो गया। दरअसल बच्चे की साइकिल गलती से चूजे के ऊपर से निकल गई। लेकिन इस बता का उसे बहुत गिल्ट हुआ और उसने चूजे को किनारे पर रख गिया और फटाफाट अपने घर गया। इसके बाद बच्चे के पास जो कुछ भी थोड़े बहुत पैसे पड़े थे उनको जमा किया और वापस चूजे के पास गया। चूजे के पास जाकर बच्चे ने उसे गोदी ले लिया और दौड़कर पास के अस्पताल पहुंचा ताकि उसका इलाज करवा सके।

दिल्ली में आई तो उसको वैसा बना दूँगी जैसा मैंने UP बनाया था – मायावती

बच्चा इतना छोटा है कि उसे ये भी नहीं मालूम कि पशुओं का अस्पताल अलग होता है।इस तस्वीर को सांगा सेज नाम के फेसबुक अकॉउंट से शेयर किया गया है और साथ में पूरी घटना के बारे में लिखा है। ये पोस्ट अब तक 84 हजार से ज्यादा बार शेयर हो चुका है जबकि 8.5 हजार के करीब इसपर कमेंट हैं। फोटो में बच्चे के चहरे के भाव किसी का दिल पिघलाने के लिए काफी हैं। फिलहाल ये बच्चा उन के लिए एक आदर्श है जो इंसान होने के नाते सब कुछ खा जाने की वकालत करते हैं .

इधर मायावती ने खुद की तुलना श्रीराम से की तो उधर बोल पड़ा रावण… सीधी चढाई मायावती के साथी अखिलेश पर


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...