कर्तव्य को सबसे ऊपर रखने वाले जांबाज़ IPS मधुकर शेट्टी का असामयिक निधन .. भावभीनी श्रद्धांजलि

अपने कर्तव्य को सर्वोपरि रखने वाले जांबाज़ IPS ( भारतीय पुलिस सेवा) के अधिकारी मधुकर शेट्टी जी अब दुनिया में नहीं हैं . वर्दी पहन कर अपराधियों से लड़ने वाले इस युवा जांबाज़ ने लम्बी लड़ाई लड़ी बीमारी स्वाइन फ़्लू से लेकिन आख़िरकार संसार को छोड़ कर चले गये और पीछे छोड़ गये है कर्ताव्य पर अटल रहने की वो गाथा जो सदा आने वाले अधिकारियो को प्रेरणा देती रहेगी . सिर्फ पुलिस विभाग ही नहीं बल्कि समूचे राष्ट्र में इनकी असामयिक मृत्य से शोक व्याप्त है . अटलता और अडिगता में इनके कार्यों की आज भी वहां तक चर्चा होती है जहाँ इनकी कभी पोस्टिंग भी नहीं रही है .

एक सप्ताह पहले अस्पताल में भर्ती किए गए मधुकर आर शेट्टी की मौत के समय कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारास्वामी के कहने पर राज्य के एडीजी क्राइम, प्रताप सिंह रेड्डी अस्पताल में मौजूद थे। साथ ही तेलंगाना के मुख्य सचिव शैलेंद्र कुमार जोशी और डीजीपी महेंद्र रेड्डी भी उनकी स्थिति पर नजर बनाए हुए थे। लोकायुक्त रहते हुए दिवंगत शेट्टी ने भ्रष्ट अधिकारियों और कर्मचारियों के साथ साथ बड़े नेताओं को भी कार्रवाई से नहीं बख्शा..

जब दिवंगत मधुकर शेट्टी कर्नाटक के चिकमगलुरु जिले के एसपी थे तब आईएस हर्ष गुप्ता वहां के डिप्टी कमीश्नर थे। दोनों की इस जोड़ी ने जिले में शानदार काम किया और इलाके से सारे अवैध कब्जे हटवा दिए।  आईपीएस अधिकारी मधुकर आर शेट्टी का हैदराबाद के कॉन्टिनेंटल अस्पताल में शुक्रवार रात देहांत हो गया। मधुकर स्वाइन फ्लू की बीमारी से पीड़ित थे। बता दें कि अपने काम में ईमानदारी को लेकर मधुकर ने खास पहचान बनाई हुई थी। वे पिछले 2 सालों से हैदराबाद में केंद्र के डेप्युटेशन पर पोस्टेड थे। मूल रूप से कर्नाटक के उडुपी के रहने वाले मधुकर शेट्टी ने जेएनयू से पढाई की थी। देहांत के समय शेट्टी जी की उम्र महज 47 वर्ष ही थी .  दिवंगत IPS अधिकारी मधुकर शेट्टी जी को भावभीनी श्रद्धांजलि .

Share This Post