Breaking News:

कठुआ के बाद एक विशेष समुदाय द्वारा वायरल किये गए हिन्दू देवताओ देवियो के अश्लील चित्र बने हैं आज़मगढ़ विवाद की जड़ . आरोपी हिन्दू युवक हिरासत में


धार्मिक भावनाओं का उकसाना किसी भी रूप में किसी भी मत के लोगो के लिए सही नही हो सकता लेकिन प्रतिक्रिया से कहीं अधिक दोषी होती है वो क्रिया जिसके चलते बड़ी प्रतिक्रिया सामने आती है ..कभी ठीक यही गोधरा में हुआ था जब राम राम कर रहे एक पूरे डिब्बे को मज़हबी उन्मादियों द्वारा जलाने के बाद अचानक ही प्रदेश जल उठा था उसमें क्रिया की कई गुना ज्यादा बड़ी प्रतिक्रिया देखने को मिल गयी थी ..

आज़मगढ़ में एक हिन्दू युवक ने इस्लाम मत वालों द्वारा पैगम्बर माने जाने वाले मुहम्मद के खिलाफ एक आपत्तिजनक टिप्पणी कर दी गयी जिसके खिलाफ उन्होंने पुलिस पर पथराव किया और थाने को आग लगाने की कोशिश की . अर्थात न्याय मांगा जा रहा था अन्याय के साथ ..पुलिस वाले बार बार कार्यवाही का भरोसा दिलाते रहे लेकिन मज़हबी उन्मादी अपने संख्या बहुत क्षेत्र में अपना शक्ति परीक्षण करते रहे , भले ही अतिरिक्त पुलिस बल आने पर उन्हें भागना पड़ा रहा हो ..

इसी क्रम में अगर इस घटना के पीछे देखा जाय तो पिछले काफी समय से कठुआ का बहाना ले कर हिन्दू देवी देवताओं के बेहद अश्लील चित्र वायरल किये जा रहे हैं . सुदर्शन न्यूज ने विधिवत एक खबर के साथ पूरे प्रमाण दिखाते हुए उस पर प्रशासन की नजर डालने की कोशिश की लेकिन वो सोते रहे ..इन तस्वीरों में कभी माता सीता श्रीराम के साथ कार्टून में रावण के साथ जाने की बातें करती छापी गयी थी , इसके अलावा महादेव के त्रिशूल पर कंडोम आदि चढा कर नीचता का वो नंगा नाच खेला गया था जो अंदर ही अंदर कईयो के मन मे घर कर गया था .आज़मगढ़ में गिरफ्तार हिन्दू युवक उन्ही में से एक था जो कठुआ के नाम पर वर्ग विशेष द्वारा धर्म पर आघात को चुनौती जैसा ले लिया रहा होगा..आशा है अभी कठुआ के नाम पर हिंदुत्व को बदनाम कर रहे उन तमाम कार्टूनिस्ट जो हिन्दू देवी देवताओं के चित्र वायरल कर रहे थे .. भी ऐसे ही कसेगा शिकंजा और उन्हें भी मिलेगी ऐसी ही  सजा.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share