#MandsaurRape अपनी बेटी को गुड़िया मत बनाइये बल्कि लक्ष्मीबाई, दुर्गावती जैसी वीरांगना बनाइये.. गुड़िया बनाओगे तो दरिंदे उसके साथ खेलेंगे- श्री सुरेश चव्हाणके जी

मध्य प्रदेश के मंदसौर में 7 वर्षीय मासूम के साथ हुई बीभत्स सामूहिक दुष्कर्म की घटना के बाद पूरा राष्ट्र आक्रोशित है तथा दुराचारी इरफ़ान तथा आसिफ को फांसी देने की मांग कर रहा है. ज्ञात को कि इरफ़ान तथा आसिफ ने २५ जून को मंदसौर के एक स्कूल से मासूम का अपहरण किया था तथा बेरहमी के साथ सामूहिक दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया था. इसके बाद दरिंदों ने हैवानियत की सारी हदें पार पर करते हुई मासूम के गुप्तांगों में कोई रॉड जैसी वस्तु डाल दी तथा इसके बाद धाहरधार हथियार से बच्ची का गला रेत दिया व मृत समझकर झाड़ियों के पीछे फेंक दिया था जिसके बाद २६ जून को बच्ची बेहोशी की हालत में पुलिस ने बरामद की थी.

मामला संज्ञान में आने के बाद से सुदर्शन लगातार इस मामले को चला रहा है तथा दरिंदों को फांसी की सजा देने की मांग कर रहा है. इस घटना पर देश भर से उठ रहे आक्रोश के स्वर के बीच सुदर्शन टीवी के चेयरमैन सुरेश चव्हाणके जी ने हिंदुस्तान के हर बच्चे के अभिभावकों एक अपील की है. सुरेश चव्हाणके जी ने कहा है कि हमारे देश में माता पिता अपनी बेटी को गुड़िया बोलते हैं, गुड़िया बनाते हैं जो ठीक नहीं है. श्री चव्हाणके जी ने कहा कि माता पिता को अपने बेटी को गुड़िया नहीं बनाना चाहिए क्योंकि अगर बेटी को आप गुड़िया बनाओगे तो इरफ़ान तथा आसिफ जैसे दरिंदे उस गुड़िया के साथ खेलेंगे.

श्री चव्हाणके जी ने अभिभावकों से अपील की है कि उन्हें अपनी बेटी को गुड़िया नहीं बल्कि लक्ष्मीबाई बनाना चाहिए ताकि कोई फिरंगी उसके नाम से ही काँप उठे. हमें अपनी बेटी को गुड़िया नहीं बल्कि दुर्गावती बनाना चाहिए ताकि कामुक अकबर जैसा आक्रांता भी उसका सामना न कर सके. हमें अपनी बेटी को गुड़िया नहीं बल्कि महाकाली बनाना चाहिए ताकि कोई उसकी ओर आँख उठाकर देखे तो आपकी बेटी उसको आँख निकाल ले. हमें बेटी को चाँद जैसी नहीं बल्कि सूर्य की तरह बनाना चाहिए ताकि उसकी ओर देखते ही देखने वाली की ऑंखें स्वतः ही झुक जाएँ. श्री चव्हाणके जी ने कहा कि हमारी बेटिया कोई गुड़िया नहीं हैं बल्कि वो जगत जननी है, शक्ति का स्वरूप हैं, इसलिए हमारा ये फर्ज बनता है कि हम उन्हें ऐसे संस्कार दें, ऐसी शिक्षा दें कि कोई उनके साथ गलत करना तो दूर ऐसा सोच भी न सके. इसके साथ ही चव्हाणके जी ने मंदसौर में हैवानियत का शिकार हुई बच्ची के जल्द स्वस्थ होने की कामना की तथा एक बार पुनः मध्य प्रदेश सरकार से मांग की कि इस केस की सुनवाई फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट में हो और दोनों दरिंदों को मौत की सजा मिले. 

Share This Post