मुझे श्रीराम विरोधी सांसद का विरोध करने पर नोटिस देने वाले संसद सदस्य अब संसद के अन्दर महिला सांसद नुसरत जहाँ पर फतवा देने वाले देवबंदी उलेमा को भी नोटिस दें. क्या अब संसद नहीं रही सर्वोपरि ? – सुरेश चव्हाणके

ज्यादा दिन नहीं बीता जब राज्यसभा में भगवान श्रीराम के पूरे परिवार के खिलाफ एक चुटकुला तत्कालीन समाजवादी राज्यसभा सांसद नरेश अग्रवाल ने एक बेहद आपत्तिजनक और अपमानित करने वाला चुटकुला सुनाया था जिस पर शरद यादव जैसे सांसदों ने संभल के राज्यसभा सांसद जावेद अली के साथ ठहाके लगा कर मजे लिए थे . उस समय जब सब खामोश थे तब सुरेश चव्हाणके जी ने इसका प्रबल विरोध किया और उसके चलते उन्हें 50 सांसदों ने एक साथ मिल कर नोटिस जारी की .

तब ये मांग की गई थी कि सुरेश चव्हाणके जी को राज्यसभा संसद में बुलाये और उन्हें सभी सांसद मिल कर सजा दें. तब राज्यसभा के पीठासीन अधिकारी महोदय ने कहा था कि संसद सबसे बड़ी है और यहाँ बोली गई बात को कोई भी चुनौती नहीं दे सकता है .. यहाँ तक कि उस समय नरेश अग्रवाल के खिलाफ FIR आदि की बातों पर ये इशारों में बोला गया था कि ये संसद कानून की रक्षक पुलिस के दायरे में भी नहीं आती है और इसलिए सुरेश चव्हाणके को नोटिस भेजी जाय ..

लेकिन अब उन तमाम तथाकथित सेकुलर सिद्धांतो के पालको के मुह तब बंद हो गये जब संसद के अंदर हिन्दू परिधान में आईं तृणमूल सांसद और नुसरत जहां के खिलाफ मुसलमानों के सबसे प्रसिद्ध संस्थान दारुल उलूम देवबंद से फतवा जारी हो गया है .. असल में सांसद महोदया ने बिंदी लगा रखी थी जिसको देवबंद ने मुस्लिम महिला के लिए हराम बताते हुए उस पर फतवा जारी कर दिया .. लेकिन इस मामले में साफ़ साफ़ दोहरा चरित्र देखने को मिल रहा है जो कई सवाल खड़े कर रहा है .

अब सवाल संसद की गरिमा के उन तमाम तथाकथित रक्षको से है कि क्या वो संसद के अन्दर एक निर्वाचित सांसद के खिलाफ फतवा देने वाले देवबंद के उस मजहबी उलेमा के खिलाफ उसी अंदाज़ में कार्यवाही करेंगे जिस अंदाज़ में उन्होंने सुदर्शन न्यूज के प्रधान सम्पादक श्री सुरेश चव्हाणके के खिलाफ कार्यवाही की थी . सवाल उठता है कि क्या उसी संसद से अब देवबंद के उस उलेमा को भी नोटिस जारी होगी जिसने संसद के अन्दर एक सांसद के ऊपर फतवा जारी करने का दुस्साहस किया है .. क्या अब संसद की गरिमा और श्रेष्ठता दांव पर नहीं है ? क्या अब जावेद अली , शरद यादव और  जया बच्चन देवबंद के मजहबी उलेमा के खिलाफ भी हस्ताक्षर करेंगे …

Share This Post