9 अगस्त: सुदर्शन न्यूज़ के 15वें स्थापना दिवस पर पुनः संकल्पित हैं राष्ट्रवाद की बुलंद आवाज को और ऊंचा करने तथा भारत को विश्वगुरु बनाने के लिए


आज 9 अगस्त 2019 को सुदर्शन न्यूज़ का स्थापना दिवस है. आज से ठीक 14 वर्ष पहले राष्ट्रवाद की बुलंद आवाज के साथ, हिन्दुस्थान को पुनः विश्वगुरु बनाने के संकल्प के साथ सुदर्शन न्यूज़ का शुभारंभ किया गया था. अपने पहले शो से लेकर आज तक सुदर्शन न सिर्फ अपने मिशन तथा उद्देश्य के प्रति समर्पित रहा है बल्कि समय के साथ राष्ट्र व धर्म के पार्टी अपनी आवाज को और अधिक प्रखर भी बनाया है.

आज से 14 साल पहले जब सुदर्शन न्यूज़ की स्थापना की गई थी, तब हमने संकल्प लिया था कि हम मीडिया को लेकर जनता के उस नैरेटिव को बदलेंगे जिसमें राष्ट्र और धर्म की बात नहीं की जाती है. इसलिए हमने पहले ही दिन से आम जनता से जुडी ख़बरों के साथ अध्यात्मिक राष्ट्र को प्रमुखता से उठाया. हमने अपने एजेंडे में राष्ट्र व धर्म से जुड़ी उन खबरों को प्रमुखता दी, जिन्हें भारत का मीडिया या तो खारिज कर दिया करता था. हमने भगवन श्रीकृष्ण के उस सन्देश को अपनाया जिसमें उन्होंने कहा था कि “जहाँ धर्म है वहीं विजय है” तथा हम निजी हानि लाभ की परवाह किये बिना भारतमाता के सम्मान के लिए, गौरवशाली भारतीय संस्कृति के सम्मान के लिए चल पड़े.

आज सुदर्शन के स्थापना के 14 साल बाद स्पष्ट दिखाई दे रहा है कि कई मीडिया हाउस हमारी विचारधारा का अनुसरण कर रहे हैं. एक समय मीडिया में धर्म रक्षा की बता करना, मजहबी चरमपंथ के खिलाफ बात करना एक तरह से अछूत माना जाता था लेकिन हमने इस नैरेटिव को बदला तथा आज कई मीडिया हाउस बुलंद तरीके से न सिर्फ राष्ट्र बल्कि धर्म रक्षा से जुडी खबरों को भी उठा रहे हैं. शुरुआत में हमारा मजाक भी उड़ाया गया था, हमें कहा गया था कि इस सोच के साथ सुदर्शन को बहुत कठिनाइयाँ उठानी पड़ेगी लेकिन हमने इन बैटन को चुनौती के रूप में लिया तथा आज सुदर्शन देशभर में राष्ट्रवाद की सबसे बुलंद तथा ज्वलंत आवाज बन चुका है.

सुदर्शन के कार्यों के बात करें तो हमें ये बताने की आवश्यकता नहीं हैं कि हमने जिन मिशनों को उठाया है, जिन कार्यों को पूरा करने का संकल्प लिया है, उसमें कई सफल हो चुके हैं तो कई सफल होने भी वाले हैं. इस्लामिक आतंकी जाकिर नाइक का नाम कौन नहीं जानता. देश के कथित बुद्धिजीवी तथा सेक्यूलर राजनेताओं की आँखों का तारा हुआ करता था इस्लामिक आतंकी जाकिर नाइक. तब सुदर्शन ने प्रमुखता से जाकिर नाइक के खिलाफ अभियान चलाया तथा अंत में जाकिर नाइक डर के कारण देश छोडकर भाग गया.

सहारनपुर के जिहादी हाजी इकबाल को भी ज्यादातर लोग जानते होंगें. एक के बाद कई गैरकानूनी कामों को अंजाम देने वाले हाजी इकबाल के खिलाफ सुदर्शन के अभियान के सकारात्मक परिणाम सामने आये तथा आज हाजी इकबाल जमीन सूंघने को मजबूर है. हैदराबाद के गद्दार ओवैसी भाइयों के खिलाफ बोलने की जब किसी की हिम्मत नहीं होती थी तब सुदर्शन गद्दार ओवैसी भाइयों के खिलाफ उठ खड़ा हुआ तथा आज भी उनकी मजहबी चरमपंथी विचारधारा के खिलाफ सुदर्शन संघर्ष कर रहा है.

उत्तर प्रदेश के कुख्यात अतीक अहमद तथा मुख्तार अंसारी, जिन्होंने राजनैतिक संरक्षण पाकर तमाम काले कारनामों को अंजाम दिया. यही कारण था कि कोई खुलकर इन दोनों के खिलाफ बोल नहीं सकता था. तब सुदर्शन ने न सिर्फ अतीक अहमद बल्कि मुख्तार के काले चिट्ठों के देश की जनता के सामने रखा. सुदर्शन को तमाम तरह से धमकिय भी दी गईं लेकिन सुदर्शन परिवार इससे डिगा नहीं तथा अनवरत अपने लक्ष्य के प्रति समर्पित रहा. परिणाम सामने है, मुख्तार तथा अतीक दोनों ही आज जेल में हैं.

जिस धारा 370 को हटाए जाने के बाद आज पूरा देश हर्षित है, उस धारा 370 को हटाने का संकल्प सुदर्शन की स्थापना के समय ही लिया गया था. 14 वर्षों से सुदर्शन लगातार कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने की मांग करता रहा है तथा आज कश्मीर से धारा 370 हटाई जा चुकी है. इसके अलावा प्रभु श्रीराम की जन्मभूमि अयोध्या में श्रीरामजन्मभूमि पर भव्य श्रीराम मंदिर का निर्माण, देश में समान नागरिक संहिता लागू कराना भी सुदर्शन के एजेंडे  में है तथा जब तक ये दोनों कार्य पूर्ण नहीं हो जाते, सुदर्शन पूरे मोनोयोग के साथ इन मांगों को बुलंद तरीके से उठाता रहेगा.

हाल ही में इस्लामिक कुरीति तीन तलाक के खिलाफ केंद्र सरकार ने कानून बनाया है. आपको बता दें कि सुदर्शन की शुरुआत के समय ही हमने तीन तलाक को बैन कराने के लिए आवाज उठाई थी. उसके बाद से हम लगातार सत्ता से ये मांग करते रहे कि तीन तलाक एक सामाजिक बुराई ही नहीं बल्कि गंभीर बीमारी है. वो बीमारी जिसका शिकार निर्दोष मुस्लिम महिलायें होती हैं, उनके जीवन को बर्बाद किया जाता है, फिर हलाला के नाम पर उनका शोषण किया जाता है.

इस सबके अलावा सुदर्शन न्यूज़ भारत को पाकिस्तान बनने से रोकने के लिए जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग कर रहा है. इसके लिए सुदर्शन टीवी के चेयरमैन श्री सुरेश चव्हाणके जी ने पिछले वर्ष ही ‘हम दो हमारे दो तो सबके दो” के मिशन के साथ कश्मीर से कन्याकुमारी से दिल्ली तक 20 हजार किलोमीटर की 70 दिवसीय भारत बचाओ महा रथयात्रा निकाली थी. हमें उम्मीद है कि हमारी ये मांग भी जल्द ही पूर्ण होगी. तमाम प्रदेशों के मुख्यमंत्री, केन्द्रीय मंत्री, राज्यों के मंत्री, बड़ी संख्या में सांसद तथा विधायक हमारी इस मांग का समर्थन करे चुके हैं. हमें उम्मीद है कि धारा 370 हटाने की तरह ही जनसंख्या नियंत्रण क़ानून भी बनेगा तथा हिन्दुस्थान को पाकिस्तान बनने से रोका जा सकेगा.

आज सुदर्शन न्यूज़ के 15वें स्थापना दिवस पर सुदर्शन परिवार के उन सभी सदस्यों का हार्दिक धन्यवाद, जिन्होंने अपनी अथक मेहनत से चैनल के साथ काम किया तथा चैनल को आम जनता की आवाज बनाया, राष्ट्र की आवाज बनाया. इसके साथ ही हम अपने दर्शकों का भी हार्दिक धन्यवाद करते हैं तथा उन्हें विश्वास दिलाते हैं कि जिस तरह से हम अभी तक राष्ट्र तथा धर्म की आवाज को उठाते आये हैं, आगे भी उसी मनोयोग से उठाते रहेंगे तथा हिन्दुस्थान को विश्वगुरु बनाने में अपना योगदान देते रहेंगे.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share