Breaking News:

मुरादाबाद पहुँच रही आज #भारत_बचाओ_यात्रा. जानिए कितना जरुरी है मुरादाबाद वालों के लिए #जनसंख्या_नियंत्रण_कानून

राष्ट्र निर्माण के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी के कुशल नेतृत्व मैं जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग को लेकर निकाली जा रही भारत बचाओ रथयात्रा आज उत्तर प्रदेश के अतिचर्चित जिले मुरादाबाद पहुंचेगी. ज्ञात हो कि श्री सुरेश चव्हाणके जी हिंदुस्तान मैं बढती हुई जनसंख्या को नियंत्रित करने का लक्ष्य लेकर पूरे देश मैं कश्मीर से कन्याकुमारी से दिल्ली के बीच 20 हजार किलोमीटर की रथयात्रा निकले हैं. राष्ट्र को सशक्त करने व् देशद्रोही आक्रान्ताओं के मंसूबे ध्वस्त करने के उद्देश्य से निकाली गयी ये रथयात्रा 18 फरवरी को जम्मू से शुरू हो चुकी है जो २२ अप्रैल को दिल्ली मैं समाप्त होगी. इस रथयात्रा को पूरे देश की जनता का भरपूर समर्थन मिल रहा है, लोग न सिर्फ यात्रा का समर्थन कर रहे हैं बल्कि यथाशक्ति सहयोग भी कर रहे हैं.

आज हिंदुस्तान मै बहुत सी समस्याएं हैं जिसमें बढती हुई आबादी एक प्रमुख समस्या है.
हमारे देश मैं सीमित संसाधन हैं व् बढती हुई जनसख्या के कारण मजहबी उन्माद, बेरोजगारी, स्वास्थ्य सम्बन्धी अनेक समस्याएं उत्पन्न हो रही हैं. बढती हुई जनसंख्या पर रोक लगाने वाला अगर अभी देश मैं अभी कोई कानून न बनाया गया तो देश का भविष्य निश्चय ही अंधकारमय होगा. बढती हुई आबादी से देश मैं अन्य समस्याएं तो बढ़ ही रही हैं लेकिन सबसे बढ़ी समस्या जो इसके कारन उत्पन्न हो रही है वो है देश का बिगड़ता साम्प्रदायिक सद्भाव जो निश्चय ही एक उभरते हुए हिंदुस्तान के लिए शुभ संकेत नहीं कहा जा सकता है. मुरादाबाद मैं तथाकथित अल्पसंख्यक समुदाय की जनसख्या जिस तेजी से बढी है उसके कारण जिले मैं काफी साम्प्रदायिक घटनाएँ भी बढ़ी हैं व् देश क बहुसंख्यक समुदाय पर उनकी आस्थाओं पर उनके सम्मान पर अल्पसंख्यक समुदाय द्वारा काफी हमले भी बढे हैं.
2011 की जनगणना के अनुसार मुरादाबाद मैं हिदुओं की जनसंख्या 51% व् मुस्लिमों की जनसंख्या 48% थी. और अगर इसी तरह अल्पसंख्यक समुदाय की आबादी बढती रही तो ये मुरादाबाद जिले व् देश की एकता क लिए बड़ा खतरा बनेगा क्यूंकि इतिहास गवाह रहा है कि जहाँ जहाँ हिन्दू घटा है वहां वहां देश बंटा है… मुरादाबाद सहित पूरे पश्चिमी उत्तर प्रदेश मैं आये दिन साम्प्रदायिक घटनाएँ होती रहती हैं, हिंदू आस्थाओं पर उनके मन्दिरों पर लगातार हमले होते रहते हैं, कभी मन्दिर से लाउडस्पीकर उतरवाए जाते हैं तो कभी हनुमान जयंती सहित अन्य धार्मिक यात्रायें रोकी जाती है. अगर यही स्थिति बनी रही व् जनसंख्या नियन्त्रण कानून नहीं बना तो बहुत जल्द मुरादाबाद मैं हिन्दू समाज अल्पसंख्यक हो जायेगा. 2011 मैं हिन्दू मुस्लिम जनसंख्या का अनुपात 51:48 था.
इस आधार पर निसंदेह 2021 तक ये अनुपात बदलेगा व् वहां हिन्दू समुदाय अल्पसंख्यक हो जायेगा जिसके बाद की स्थिति क्या होगी ये बताने की आवश्यकता नहीं है क्यूंकि इतिहास रहा है कि जहाँ जहाँ हिन्दू घटा है वहां वहां देश बंटा है. जहां जहां मुस्लिम समुदाय की आबादी हिन्दू समुदाय से ज्यादा हुई है व् हिन्दू समुदाय अल्पसंख्यक हुआ है वहां हिन्दुओं की स्थिति बहुत नाजुक व् दयनीय होती गयी है व् हिन्दुओं को अपनी संपत्ति आदि को छोडकर पलायन के लिए भी मजबूर होना पड़ा है या धर्मांतरण कराने को मजबूर होना पडा है. अतः मुरादाबाद मैं भी ये स्थिति न पैदा हो इसके लिए मुरादाबाद की राष्ट्रप्रिय जनता इस रथयात्रा से जुड़े, रथयात्रा का समर्थन करे, सहयोग करे, राष्ट्र मिर्माण हेतु जनसख्या नियन्त्रण कानून हेतु हो रहे इस यज्ञ मैं अपनी आहुति दे ताकि मुरादाबाद देश का दूसरा कश्मीर, बंगाल या कैराना न बन पाए. 
Share This Post