Breaking News:

संभल की घटना से साबित हो गया हमारा दावा कि भारत के अंदर ही बन चुके हैं कई “मिनी पाकिस्तान”


जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग को लेकर राष्ट्र निर्माण के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी के नेत्रत्व मैं निकाली जा रही भारत बचाओ यात्रा को सम्भल में रोक दिया गया है. सम्भल प्रशासन का कहना है कि मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र सम्भल में इस यात्रा से माहौल खराब हो सकता है व् कानून व्यवस्था बिगड़ सकती है. यात्रा रोके के जाने के बाद श्री सुरेश चव्हाणके जी धरने पर बैठ गये व् प्रशाशन से सवाल किया है कि जब सुप्रीम कोर्ट ने यात्रा पर रोक लगाने से इन्कार कर दिया तब सम्भल प्रशाशन किस आधार पर यात्रा को रोक रहा है जबकि यात्रा पूरी तरह से शांतिपूर्ण तरीके से निकाली जा रही है. ये पूरी तरह से न्यायपालिका के आदेश का अपमान है.

प्रशाशन को जवाब देना चाहिए कि आखिर इस यात्रा से कैसे माहौल खराब हो रहा था? अगर वन्देमातरम कहने से भारतमाता की जय बोलने से माहौल खराब होता है तो इसका मतलब ये माना जाए कि सम्भल हिंदुस्तान के अंदर एक मिनी पाकिस्तान बन चुका है. चव्हाणके जी ने कहा कि हम काफी पहले से कहते रहे हैं कि हिंदुस्तान के अंदर काफी जगह मिनी पाकिस्तान बन चुके हैं ओर इस यात्रा को रोकने के लिए सम्भल प्रशाशन व् अमरोहा प्रशाशन ने जो दलीलें दी हैं उनके आधार पर हमारा ये दावा सच साबित होता है कि हाँ हिंदुस्तान मैं सम्भल व् अमरोहा के तमाम स्थानों के रूप मैं मिनी पाकिस्तान मौजूद हैं जहाँ भारतमाता की जय बोलने वन्देमातरम बोलने से माहौल खराब होता है.

और ये भारत बचाओ यात्रा इसीलिए निकाली जा रही है कि जो हालात सम्भल के चुके हैं वही हालात देश के बाकी हिस्से के न बनें इसीलिए जनसंख्या नियन्त्रण कानून बनाया जाना चाहिए क्यूंकि आज सम्भल मैं यात्रा सिर्फ इसीलिए रोकी गयी है कि सम्भल मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र है. इस आधार पर ये सच है कि अगर ये कानून नहीं बना तो काफी तेजी से मुस्लिम जनसंख्या बढती रहेगी व् आज का बहुसंख्यक हिन्दू समाज अल्पसंख्यक हो जायेगा तब अपने ही देश मैं उसके घूमने फिरने घर से निकलने आदि पर रोक लगाई जायेगी तथा अपने ही देश मैं शरणार्थियों की जिन्दगी जीने को मजबूर होगा. आज पुनः राष्ट्रनिर्माण समस्त देशवासियों से निवेदन करता है कि आप सब ज्यादा से इस यात्रा का इस अभियान का समर्थन व् सहयोग करें ताकि सरकार इस क़ानून को बनाने को मजबूर हो.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share