11 जुलाई – “विश्व जनसंख्या दिवस” पर संकल्प लीजिये धर्म और राष्ट्र की रक्षा के अंतिम विकल्प “जनसंख्या नियंत्रण कानून” के लिए सुरेश चव्हाणके जी के साथ संघर्ष का तथा आज पहुँचिये जंतर-मंतर


हर दिन हर पल बढ़ रहे जनसंख्या के दबाव को हर साल महसूस करने के लिए मनाया जाता है विश्व जनसंख्या दिवस . वो दिन आज ही है अर्थात 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस है, इस दिन को मनाने के पीछे कारण ,हर सेकंड बढ़ रही आबादी के मुद्दे पर लोगों का ध्यान खींचना है। इस दिन की शुरुआत संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) की शासी परिषद द्वारा पहली बार 1989 में तब हुई जब आबादी का आंकड़ा करीब पांच बिलियन के आस-पास पहुंच गया था. संयुक्त राष्ट्र की गवर्निंग काउंसिल के फैसले के अनुसार, वर्ष 1989 में विकास कार्यक्रम में, विश्व स्तर पर समुदाय की सिफारिश के द्वारा यह तय किया गया कि हर साल 11 जुलाई विश्व जनसंख्या दिवस के रूप में मनाया जाएगा.

इस्लामिक मुल्क इंडोनेशिया में अपने अधिकारी की गंदी बातें और गंदी मांग को फोन में टेप कर न्याय मांगने वाली महिला का हुआ ये हाल

भारत में आज सबसे बड़ी समस्या बढ़ती जनसंख्या है तथा पिछले कुछ वर्षों में काफी तेजी से भारत में जनसंख्या बढ़ी है. भारत में जनसंख्या के विस्फोटन को रोकने के लिए अगर अब अभी कठोर जनसंख्या नियंत्रण कानून नहीं बना तो यह आने वाले दस सालों में देश की आबादी 200 करोड़ के पार होगी. इसलिए जरूरी है कि इस पर सख्त कानून बनाया जाए. आज हम सभी इस देश में समानता की बात करते हैं पर कुछ लोग अपने फायदे के लिए समानता की बात करते हैं. जब भी हम दो, हमारे दो के कानून लागू होने की बात करते हैं तो कुछ लोग इसका विरोध करते हैं. अब समय आ गया है उन लोगों को जवाब देने का.

7 माह की गर्भवती महिला पर इसलिए किया हमला, क्योंकि वो बीजेपी कार्यकर्ता थी.. दरिंदगी का नया रूप

देश की सबसे बड़ी और सबसे जुड़ी एक ज्वलंत समस्या जनसँख्या विस्फोट पर प्रभावी नियंत्रण और इसके स्थायी व दीर्घकालिक समाधान के लिए ‘राष्ट्र निर्माण संगठन” तथा संगठन के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी लंबे समय से सरकार से एक कठोर और प्रभावशाली जनसँख्या नियंत्रण कानून’ बनाने की मांग करता रहा है. इसके लिए पिछले साल सुदर्शन टीवी के प्रधान संपादक तथा राष्ट्र निर्माण संस्था के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी के नेतृत्व में कश्मीर से कन्याकुमारी से दिल्ली के बीच 20 हजार किलोमीटर की 70 दिवसीय अखिल भारतीय भारत बचाओ यात्रा भी निकाली गई थी तथा आम जनता को भी बढ़ती हुई आबादी से उत्पन होने वाली समस्याओं को लेकर जागरूक किया था.

सरकार के सख्ती के बाद भी सकलडीहा ब्लाक के बढ़वलडीह में सुदर्शन न्यूज ने किया भ्रष्टाचार का खुलासा

भारत बचाओ यात्रा के बाद देशभर से जनसंख्या नियंत्रण क़ानून की मांग के लिए आवाज तेज हुई है तथा ये मांग अब राष्ट्रव्यापी मांग बन चुकी है लेकिन अभी तक जनसंख्या नियंत्रण कानून नहीं बनाया गया है. मोदी सरकार अपने दूसरे कार्यकाल में प्रवेश कर चुकी है, इसलिए अब जरूरी है कि देश में बढ़ती हुई जनसंख्या पर लगाम लगाया जाए तथा जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाया जाए. इस बीच आज विश्व जनसंख्या दिवस 11 जुलाई के अवसर पर राष्ट्र निर्माण संस्था द्वारा देश की राजधानी दिल्ली की एक प्रमुख जगह जंतर मंतर पर “जनसंख्या नियंत्रण कानून” की मांग के लिए “जनसंसद” आयोजित की जा रही है.

हरियाणा सरकार का अजीबोगरीब सर्कुलर…

इस जनसंसद में जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए प्रस्ताव पारित किया जाएगा. राष्ट्र निर्माण संस्था द्वारा आयोजित की जा रही इस जनसंसद में कई केन्द्रीय मंत्री, सत्ता पक्ष तथा विपक्ष के कई सांसद, प्रांतीय मंत्री वरिष्ठ सैन्य अधिकारी, शीर्ष वैज्ञानिक, समाज सेवक, धर्म गुरु, समाज के प्रबुद्ध लोग तथा आम जनता भी शामिल होगी. राष्ट्र निर्माण संस्था के अध्यक्ष तथा सुदर्शन टीवी के चेयरमैन श्री सुरेश चव्हाणके जी ने कहा कि अब तक हमारे अभियान को बड़ी संख्या में केन्द्रीय मंत्रियों, मुख्यमंत्रियों, सांसदों, विधायकों व अन्य बुद्धिजीवियों का समर्थन मिल चुका है. इसी को देखते केंद्र सरकार जल्द जनसंख्या नियंत्रण क़ानून बनाये, इस कानून हेतु प्रतीकात्मक संसद के रूप में हमने ”जन संसद” का आयोजन किया है जिसमें “जनसँख्या नियंत्रण कानून” के लिए प्रस्ताव पारित किया जाएगा.

सपना चौधरी पर टिपण्णी कर बुरे तरह फंसे यह शख्स, महिला आयोग ने लिया एक्शन…

श्री सुरेश चव्हाणके जी ने कहा कि इस जनसंसद में आम जनता भी राय कहेगी तथा सरकार से जल्द कठोर जनसंख्या नियंत्रण की मांग करेगी. इस दौरान श्री सुरेश चव्हाणके जी ने दी संख्या में लोगों से जंतर-मंतर पहुँचने की अपील की है. श्री सुरेश चव्हाणके जी ने कहा है कि जनसंख्या नियंत्रण क़ानून के आंदोलन को अपना समर्थन देने, हिन्दुस्थान को पाकिस्तान बनने से रोकने के लिए. लव जिहाद, लैंड जिहाद और आतंक को मुंह तोड़ जवाब देने के लिए अपनी आने वाली पीढ़ियों को, अपनी संतानों को शान से जीने के लिए सभी लोग बड़ी संख्या में जंतर-मंतर पहुंचें.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...