31 मार्च- 2011 में आज ही गिनी गई थी भारत की आबादी.. उस समय ये थी 121 करोड़ जो आज भी बढ़ रही बेतहाशा.. "ख़ास कर एक वर्ग की" - Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News, Latest Khabar -

Breaking News:

31 मार्च- 2011 में आज ही गिनी गई थी भारत की आबादी.. उस समय ये थी 121 करोड़ जो आज भी बढ़ रही बेतहाशा.. “ख़ास कर एक वर्ग की”


बिना खाने की चिंता व बिना सोने की फिक्र किये हुए, देश की उन्नति व जनसँख्या के संतुलन को बनाये व बचाये रखने के लिये दिन रात प्रयास करने वाले सुरेश चव्हाणके जी ने भारत की एकतरफा बढ़ रही आबादी के दुष्परिणाम और उसके पीछे की छिपी हुई मानसिकता को पहले ही जान लिया था .. उन्हें पता था कि अगर एक ही वर्ग की आबादी ऐसे भी बढती रही तो आने वाले समय में भारत और भारत के रहने वाले सच्चे भारतीयों को क्या क्या झेलना पड़ेगा . यद्दपि भारत ने अतीत में उसको झेला भी है .

जमीयत ने जारी की है जायज और हराम की लिस्ट.. आप भी जानिये कि क्या जायज और क्या नाजायज ?

कोरोना से पीड़ित गरीब लोगो के लिए आर्थिक सहयोग

सुदर्शन न्यूज के प्रधान संपादक व राष्ट्र निर्माण संस्था के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी के प्रयास की नीव उस समय ही पड़ गयी थी जब सन २०११ में आज के ही दिन भारत की आबादी को गिना गया था . ये आबादी उस समय ही 121 करोड़ हो गयी थी .. इस आबादी में उन तमाम बंगलादेशी घुसपैठियों का कहीं से कोई भी जिक्र नहीं था जिनकी अनुमानित संख्या करोडो में बताई जाती है . जन जन तक बात पहुचाने के लिए जम्मू से कन्याकुमारी तक तमाम अवरोधों के बाद भी कई विषम हालात में जाने वाले चव्हाणके जी की बुलन्द आवाज को सही मान कर ही लोकसभा तक में उठाया गया है..

तोते की तरह सच कबूल कर रहे बौद्धों का नरसंहार करने आये आतंकी.. बताया एक अन्य आतंकी के बारे में जो छिपा हुआ था पुणे में

आज ही के दिन अर्थात 31 मार्च सन २०११ में हुई जनगणना भारत की 15 वी जनगणना थी . इस से पहले भी 14 बार देश की आबादी का आंकलन किया गया था जिसमे एकतरफा बढती आबादी का जिक्र साफ़ साफ़ था .. लेकिन उस आबादी को अपना वोटबैंक मानते हुए तथाकथित राजनेताओं ने अपनी चुप्पी साधे रखी . भारत का क्षेत्रफल पूरी दुनिया के क्षेत्रफल का 2.4 फीसदी है लेकिन विश्व की कुल आबादी की तुलना में 17.5 फीसदी लोग भारत में रहते हैं. वर्ष २०११ की जनगणना से पहले ये आंकडा 16.8 प्रतिशत था.

मतलब भारत की सेना द्वारा रक्षित उसी सीमित भूभाग में आबादी तेजी से बढ़ रही है जिसका अंत कहाँ होगा ये सुरेश चव्हाणके जी अपनी कई सभाओं में बता चुके हैं . वर्ष २०११ में ही भारत की आबादी 1 अरब 21 करोड़ घोषित हुई थी .. – 2001 से 2011 में भारत की जनसंख्या 17.6 प्रतिशत की दर से 18 करोड़ बढ़ी थी .. इसमें विदित है कि किस वर्ग की  आबादी की विकासदर ज्यादा थी लेकिन उसको कतिपय कारणों से छिपा कर रखा गया था . इस आबादी के आंकड़ों में सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश में आबादी दर्ज हुई थी ..

कांग्रेस के कद्दावर नेता अहमद पटेल पर लगा अब तक का सबसे सनसनीखेज आरोप.. शियाओं के बड़े नाम कल्बे जव्वाद ने मचाई सनसनी

यहाँ ये ध्यान रखने योग्य है कि ये आंकड़े लगभग 8 वर्ष पहले का है जिसके बाद अब तक ये आबादी और भी कहीं ज्यादा बढ़ चुकी है . आंकड़ो में ये भी बताया गया है कि आने वाले समय में भारत सबसे ज्यादा मुसलमानों की आबादी वाला देश होगा . इतना ही नहीं , चीन की आबादी स्थिर होने वाली है और जल्द ही अभी संसार में दूसरे नम्बर पर जनसंख्या के मामले में रहा भारत पहले नम्बर पर आने वाला है . एक आंकड़े के हिसाब से आने वाले 10 वर्ष बाद अर्थात वर्ष २०२९ में चीन की अपने सर्वोच्च चरम बिंदु पर आ जायेगी और उसके बाद ये सन 2030 से तेजी से घटनी शुरू हो जाएगी..

इस कानून को पारित करने के लिए चीन को तमाम विरोधो का सामना करना पड़ा था लेकिन चीन के शासक अपने देश की भलाई के लिए अड़े रहे और उनकी वो दृढ़ता आख़िरकार अब उनके आने वाली सन्तति के काम आ रही है .. सुदर्शन न्यूज़ के मुख्य संपादक श्री सुरेश चव्हाणके जी ने देश भर में भारत बचाओ यात्रा निकाली और देश में जनसंख्या नियंत्रण कानून के लिए अलख जगाई…. इसी कड़ी में 20हजार किलोमीटर ओर 70 दिन की यात्रा की देश के कई हिस्सों में विरोध भी देखने को मिला लेकिन हमारी ये मुहिम रुकी नही देश भर से भारी जनसमर्थन मिला देश से एक ही आवाज निकली कि ये कानून राष्ट्र की पहली जरूरत है ..

रूसी पत्रकारों की मौजूदगी में ब्रिक्स अवॉर्ड से सम्मानित किये गये श्री सुरेश चव्हाणके जी.. दुनियाभर से शुभकामनाओं का तांता


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share