Breaking News:

होली में वो कबाड़ी उठा ले गया उस 9 साल की मासूम को और जब चीखने की आवाज आई तो होली के बजाय शुरू हो गया कुछ और….

क्या एक कबाड़ी किसी का अपहरण कर सकता है. क्या आप सोच सकते हैं कि एक कूड़ा बीनने वाला बच्चों का को गायब कर सकता हैं. पहली बार में आप यहीं कहेंगे कि नहीं लेकिन एसा हुआ है देव भूमि उत्तराखंड में. इस घटना के बाद अभिभावकों को अपने बच्चों की सुरक्षा का विशेष ख्याल रखना चाहिए क्यूंकि उत्तराखंड के उत्तरकाशी के नौगाँव बाज़ार से एक कबाड़ी वाले होली के दिन एक 9 साल की बच्ची का अपहरण कर लिया व घर में ले जाकर रस्से से बाँध दिया.

उत्तरकाशी जिले के नगर पंचायत नौगांव में नौ वर्षीय कक्षा 3 की एसटी छात्रा का अपहरण हो गया. होली से एक दिन पहले बच्ची सामान और रंग लेने बाजार गयी थी. बच्ची जब घर नही लौटी तो परिजनों ने उसकी गुमशुदगी पुलिस चौकी में दर्ज कराई. होली के दिन शुक्रवार को सुबह 11 बजे मौहल्ले के बच्चे जब होली खेल रहे थे तो उन्होंने बच्ची की आवाज सुनी. लड़की चिल्ला रही थी– ‘मुझे बचाओ- मुझे बचाओ’. लड़की एक कबाड़ी के कमरे में बंधी थी जिसके बाद होली खेल रहे लोगों ने बच्ची को छुड़ाया.

जब ये खबर में फैली तो लोग आक्रोशित हो गये व कबाड़ी वाले के यहाँ जमा हो गये.  लोगों ने कबाड़ी के आवास और दुकान पर जमकर तोड़फोड़ की. दो बाइक और एक कार को आग के हवाले कर दिया. इतना ही नहीं कबाड़ियों से जुड़े कुछ और परिवार भी आक्रोशित भीड़ का शिकार बने. आगजनी की खबर सुनकर  जिलाधिकारी डा. आशिष चौहान, पुलिस अधीक्षक ददन पाल, सीओ और एसडीएम पुरोला भारी फोर्स नौगांव पहुँच गये तथा पीड़ित लड़की का हाल जाना व दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का भरोसा दिया.

इसके बाद भी लोगों का आक्रोश शांत न हुआ तो क्षेत्र में तनावपूर्ण माहौल को देखते हुए बड़कोट, पुरोला, मोरी, धरासू थाने की पुलिस फोर्स और पीएसी की एक टुकड़ी तैनात की गयी है. बच्ची को मेडिकल के लिए उत्तरकाशी भेज दिया गया है. पुलिस ने मामले में आरोपी मोहम्मद अनस (19) पुत्र जुल्फिकार निवासी जीवनगढ़ विकासनगर और उसके साथी काला (24) पुत्र नजीर निवासी सहारनपुर को गिरफ्तार किया है.  आरोपियों पर आईपीसी की धारा 307, 363 और पोक्सो की धारा 7/8 के तहत मामला दर्ज किया गया है. कोर्ट ने दोनों को जेल भेज दिया है.

Share This Post