राम नवमी पे संभल में रावण राज

राम नवमी पे संभल में रावण राज

आज के परिवेश में हिन्दू धर्म स्थानों  व् संस्कृति के विरूद्ध जो षड्यंत्र चल रहे है | और आज हिन्दू जनमानस एक समुदाय विशेष की वजह से पलायन करता दिख रहा है जहाँ भी ये ज्यादा की संख्या में होते है | वही ये भारत की एकता अखण्डता को खंडित करने का प्रयास करते है इसका ताजा तरीन उदाहरण संभल व् ग्वालियर का देखने को मिला जहाँ संविधान को ताख पर रखते हुए प्रशाशन को भी चुनौती देने का कार्य किया गया इनका जहाँ जी चाहता है | मस्जिद बना लेते हैं इसका तो विरोध हिन्दू नहीं करता परंतु जो देश राम और कृष्ण का है | वहां इनको उनके मंदिर बनने से बड़ी तकलीफ होती है ये कहाँ से जुलुश निकालेंगे जब ये हिन्दू तय नहीं करता है | तो राम और कृष्ण की यात्रायें कहाँ से निकलेंगी ये तय करने का अधिकार इनको किसने दिया है इन लोगो को शायद पता नहीं है की ये देश राम और कृष्ण का है |  ये देश बाबर और औरंगजेब का नहीं है इसलिए अब सोच को बदलना पड़ेगा और एक समुदाय विशेष को अपने एजेंडे के साथ नहीं इस देश के एजेंडे के साथ चलना पड़ेगा |

Share This Post