Breaking News:

जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग के लिए सुरेश चव्हाणके जी के संघर्ष को बड़ी सफलता.. राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा ने पेश किया प्राइवेट “जनसंख्या नियंत्रण कानून” बिल


हिंदुस्तान की मूल सभ्यता तथा संस्कृति को बचाने के लिए “जनसंख्या नियंत्रण क़ानून” की जिस मांग के लिए राष्ट्र निर्माण संस्था के प्रमुख तथा सुदर्शन टीवी के चेयरमैन श्री सुरेश चव्हाणके जी संघर्ष कर रहे हैं, उनके संघर्ष को बड़ी सफलता मिली है. खबर के मुताबिक़, संघ विचारक तथा राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा ने “जनसंख्या नियंत्रण क़ानून” से जुड़ा प्राइवेट बिल संसद में पेश किया है. राकेश सिन्हा के इस निजी विधेयक में देश के हर नागरिक के लिए दो बच्चों के प्रावधान का जिक्र है.

दरिंदगी से मार डाली गई वो मुस्लिम लड़की जो प्यार कर बैठी हिन्दू युवक से.. खामोश हैं प्यार के ठेकेदार

राकेश सिन्हा ने जनसंख्या नियंत्रण से जुड़े इस बिल को जनसंख्या विनियमन विधेयक, 2019 नाम दिया गया है. इस बिल में कहा गया है कि देश में 2 और 11 का अनुपात नहीं चलेगा. बिल में कहा गया है कि कुछ लोग देश और संसाधनों का खयाल रखते हैं वो एक या दो बच्चे ही पैदा कर रहे हैं. लेकिन कुछ 9 से लेकर 11 बच्चे पैदा करते हैं. ये अनुपात नहीं चलेगा. बिल में कहा गया है कि सच्चर कमेटी ने कई परिवारों का हवाला दिया है जिसमें 7,9 और 11 बच्चे है. जनसंख्या का बोझ संतुलन बिगाड़ता है. बिल में कहा गया है कि मानव और प्राकृतिक संसाधन में एकरूपता रहना चाहिये.

13 जुलाई: बलिदान दिवस बाजीप्रभु देशपाण्डे.. वो महायोद्धा जिसने मात्र 600 सैनिको के साथ सिद्दी जौहर के लाखों आक्रांताओ को काट कर प्राप्त की अमरता

राकेश सिन्हा का कहना है कि इस विधेयक को प्रभावी बनाने के भी प्रावधान किये गये हैं ताकि लोग बढ़ती आबादी के नुकसानों को समझकर इसे अपना सकें. राज्यसभा सांसद तथा संघ विचारक राकेश सिन्हा ने कहा है कि करूणाकरण कमेटी ने भी बढ़ती आबादी पर रोकथाम को लेकर अपनी रिपोर्ट पेश की थी. उन्होंने कहा कि ऐसा अगर होता है तो इससे किसी समुदाय के भी मौलिक अधिकारों का हनन नहीं होगा.

ऐसा क्या लालच मिला उस 13 साल के अफगानी लड़के को कि उसने बॉडी पर बाँध लिया बम और फट गया जा कर बारात में ?

राकेश सिन्हा के जनसंख्या विनियमन विधेयक, 2019 बिल में कहा गया है कि

  • टू चालल्ड नार्मस मानने  वालों को फायदा मिले
  • बैंक डिपॉज़िट में ज़्यादा ब्याज़ मिले
  • बच्चों को शिक्षा में प्राथमिकता मिले
  • जो लोग 2 चाइल्ड नार्म्स के खिलाफ हैं
  • वे लोकतांत्रिक अधिकारों से वंचित हों
  • जमा रकम में कम ब्याज़ मिले
  • लोन लेने पर अधिक ब्याज़ लगे
  • नौकरियों में प्राथमिकता ना मिले

बता दें कि  “हम दो हमारे दो तो सबके दो” के मिशन के तहत “जनसंख्या नियंत्रण कानून” की मांग के लिए सुदर्शन टीवी के प्रधान संपादक श्री सुरेश चव्हाण जी लंबे समय से संघर्ष कर रहे हैं. इसके लिए सुरेश चव्हाणके जी ने पिछले साल कश्मीर से कन्याकुमारी से दिल्ली के बीच 20 हजार किलोमीटर की 70 दिवसीय भारत बचाओ यात्रा निकाली थी तथा देश के लोगों को जनसंख्या नियंत्रण क़ानून की मांग के लिए जागरूक किया था. भारत बचाओ यात्रा के बाद भी श्री चव्हाणके जी   विभिन्न तरीकों से अनवरत इस कानून की मांग कर रहे हैं.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...