#Vote4Nation महाअभियान के सारथी बने सुरेश चव्हाणके जी.. नागपुर के NIT कालेज में छात्र- छात्राओं को मतदान के लिए किया जागरूक

भारतीय लोकतंत्र के महापर्व की रणभेरी बज चुकी है . इसमें कुछ असमाजिक और गद्दारों को छोड़ कर देश की व्यवस्थाओं में विश्वास रखने वाले सभी तबके के लोग अपने अपने कर्तव्यों का निर्वहन कर रहे हैं . इसी पर्व में जहाँ अर्धसैनिक और पुलिस के जवान कानून व्यवस्था के साथ शांति स्थापित करने के लिए दिन रात एक किये हुए हैं तो वहीँ अन्य प्रशासनिक व सरकारी अधिकारी मतदान केन्द्रों पर अपनी जिम्मेदारी सम्भालने के लिए तैयारी कर रहे हैं .

फर्जी IFS अधिकारी बन गयी थी जोया खान और पहुच गयी प्रधानमन्त्री तक .. शाबाश वैभव कृष्ण

इसी क्रम में तमाम राजनेता अपने अपने लिए और अपनी अपनी पार्टियों के लिए चुनाव अभियान में जुटे हुए हैं तो वहीँ एक और अभियान चल रहा है जो आम जनता को निश्चित मतदान के लिए प्रेरित कर रहा है . इस महापर्व में जनता खुद से ही खुद का भाग्यविधाता चुनती है और बाद में वही देश के भविष्य का निर्धारण करता है .. ऐसे में एक बड़ा वर्ग होता है जो देश के भविष्य निर्धारण के इस महापर्व में तटस्थ रह कर अपनी इस सबसे बड़ी जिम्मेदारी से बच कर निकलना चाहता है

पहली बार किसी ने दी है सीधे चुनाव आयुक्त को ही जेल भेजने की धमकी… अब तक का सबसे दुस्साहसिक बयान

उसी जनता को जागरूक करने के लिए चल रहे अभियान #Vote4Nation को ले कर एक सारथी के रूप में सुदर्शन न्यूज के प्रधान सम्पादक और राष्ट्र निर्माण संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी नागपुर पहुचे हैं . नागपुर में सुरेश चव्हाणके जी ने समाज के लगभग हर वर्ग को उसकी जिम्मेदारी याद दिलाई और ये बताया कि उनके वोट और किसी बड़े बड़े राजनेता ,अधिकारी आदि के भी वोट में एक जैसी ही ताकत है . वो आम जनता को ये समझाने में व्यस्त रहे कि इस पर्व में भारत का हर नागरिक एक जैसा ही अधिकार रखता है . इसी अभियान के पहले चरण में सुरेश चव्हाणके जी ने युवाओं से सीधा संवाद किया और NIT कालेज में जा कर छात्र छात्राओं को उनका मताधिकार प्रयोग हर हाल में करने के लिए जागरूक किया ..

गाय खाने की जिद पाले गौभक्षको को शिक्षा दे गया मासूम. घायल चूजे को ले कर अस्पताल पंहुचा और 10 रूपये दे रोते हुए बोला- “इसे ठीक कर दो”

अपने इस लम्बे संवाद के बाद छात्र छात्राओं ने न सिर्फ खुद ही बढ़ चढ़ कर इस पर्व में सम्मिलित होने का संकल्प लिया बल्कि अन्य को भी जागरूक करने की बात कही .. सुरेश चव्हाणके जी उन सभी युवाओं को ये समझाने में कामयाब रहे कि राष्ट्र की मजबूती और उज्जवल भविष्य के लिए कैसे एक राष्ट्रवादी सरकार के चयन में वो महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं .. इस अवसर पर नागपुर के तमाम गणमान्य व्यक्ति , शिक्षक और अभिभावक आदि मौजूद थे .

इधर मायावती ने खुद की तुलना श्रीराम से की तो उधर बोल पड़ा रावण… सीधी चढाई मायावती के साथी अखिलेश पर

Share This Post