18 मार्च- “आयुध निर्माण दिवस” की शुभकामनाएं क्योकि शस्त्र के बिना न तो राष्ट्र की रक्षा सम्भव है और ना ही धर्म की

भारत की एकता और अखंडता को अनेकों युद्ध झेलने के बाद भी बचा कर रखने वाले तत्कालीन आयुधों व् आज भारत को विश्व की शीर्ष सैन्य शक्ति बना चुके वर्तमान आयुधों का स्मृति दिवस 18 मार्च आयुध निर्माण दिवस सुदर्शन न्यूज की तरफ़ से सम्पूर्ण भारत वासियों को मंगलमय हो .. जब भी भारत विश्वगुरु होगा तब शास्त्रों के समान शस्त्रों का भी समांतर योगदान होगा क्योंकि बिना खड्ग बिना ढाल किसी भी राष्ट्र का अस्तित्व शून्य के बराबर होता है.

जब जब राष्ट्र पर किसी शत्रु ने आँख उठाई तब तब आयुधों अर्थात हथियारों ने ही उनको मुह तोड़ जवाब दिया है . आज देश की सीमओं पर हमारे सैनिक और देश की सीमाओ के अन्दर हमारे पुलिस बल अपने हाथो में हथियार ले कर जब गुजरते हैं तो आम जनता को अपनी सुरक्षा का एहसास होता है . भले ही अहिंसा के नाम पर उसका विकृत रूप भारत में दिखाने की तमाम कोशिश की गयी रही हो लेकिन आज के परिदृश्य में हर कोई ये स्वीकार करता है कि बिना शस्त्र न धर्म की रक्षा सम्भव है और न ही राष्ट्र की .

आज इस शुभ दिवस पर भारत की तमाम आयुध फैक्ट्रियो में देश के रक्षको के लिए नित नए हथियार बना रहे और उस पर अनुसन्धान कर रहे उन तमाम राष्ट्रभक्तों को सुदर्शन न्यूज बारम्बार नमन करता है क्योकि उनके किये गये प्रयासों से ही हमारे सैनिको के हाथ मजबूत होते हैं और हम संसार की महाशक्ति कहलाते हैं.. आयुध निर्माण दिवस पर उनको भी परमात्मा से सद्बुद्धि की कामना जो देश की सुरक्षा से समझौता करने के लिए तैयार रहते हैं , कभी अहिंसा के नकली नियम बना कर और कभी अपनी राजनीति को चमकाने के लिए .

Share This Post