हिंदुत्व से इतने प्रभावित हुए अमेरिका के CA सेथ डे कि ओढ़ लिया भगवा और बन गए ब्रह्मचारी.. बस गये भारत में

ये महानतम भारतीय संस्कृति की खुशबू ही है कि जो इसको एक बार आत्मसात कर लेता है वो फिर इससे दूर नहीं हो सकता बल्कि पूरी तरह से यहीं का हो जाता है. अमेरिका के सेथ डे हिंग्गीकरन भी  भारत भ्रमण पर आये थे. उनको भारत की आबो-हवा और धर्म संस्कृति इस कदर रास आई कि वो यहीं के हो गये. अमेरिका के इडियाना में रहने वाले अमेरिकी नागरिक सेथ डे हिंग्गीकरन को बुधवार को राजस्थान के जयपुर में भारतीय नागरिकता प्रदान की गई है.

जहाँ मुख्यमंत्री का सम्मान नहीं सुरक्षित वहां कार्यकर्ताओं की जान कैसे बचे ? गाजियाबाद में भाजपा नेता की हत्या से पहले खूब बढाये गये थे ऐसे अपराधियों के मनोबल

पेशे से सीए सेथ डे हिंग्गीकरन ने बताया कि बताया कि वे अमेरिका की कई नामी कंपनियों में नौकरी करते थे. लाखों में वार्षिक आय थी. अमेरिका में भारत के हिंदू धर्म के बारे में काफी सुना था. दिल में इस धर्म को करीब से देखने और इसके रीति रिवाज समझने की ख्वाहिश थी. अपनी इसी चाह को पूरा करने के लिए 17 साल पहले वर्ष 2002 में वो तीन सप्ताह के लिए भारत आये, लेकिन हिंदू धर्म से इतने प्रभावित हुए कि यहीं के होकर रह गए, वापस अमेरिका नहीं लौटे.

मदरसे में पढ़ने वाले 19 से कम उम्र के बच्चों को बुझानी पड़ती थी मौलाना की हवस की आग.. वो मदरसा जिसे सब मानते थे पढ़ाई का केंद्र

भारत आने के बाद हिंग्गीकरन शुरुआत में तमिलनाडु में रहे, लेकिन गत दो बरसों से वे जयपुर में रह रहे हैं. जयपुर में गृह विभाग से भारत की नागरिकता का प्रमाण पत्र लेने के बाद सेथ डे हिंग्गीकरन कहा कि वे बहुत खुश हैं. भारतीय धर्म ग्रंथ अद्भुत है. उन्हें समझने एवं पढ़ने में आनंद की प्राप्ति है. वे हिंदू धर्म से इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने आजीवन ब्रह्मचर्य धारण कर लिया. 2002 में भारत आने के बाद इन्होंने तमिलनाडु में योग और साधना सीखना शुरू किया था. बाद में इसमें इतने रम गए कि उन्होंने भारतीय नागरिकता लेने के लिए आवेदन कर दिया तथा अब वह भारतीय नागरिक बन चुके हैं.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW