24 जुलाई: बलिदान दिवस पर नमन है अंग्रेजो की जड़ें हिला देने वाले उस वीर चैन सिंह को जिन्हें कहा जाता है मध्यप्रदेश का मंगल पाण्डेय

प्रचार होना बलिदान के चरम को नहीं दिखाता है . . भारत में कुछ लोगों ने अपने प्रचार को ही अपने बलिदान की सबसे बड़ी थाती मान लिया जिसका ढोल आज भी पीटा जा रहा है . उस ढोल में तलवारों की वो खनक भुलाने की कोशिश की गयी है जो हमारे गौरशाली पूर्वजों की सच्ची धरोहर रही है . भारत की स्वतन्त्रता के लिए किसी एक परिवार, दल या क्षेत्र विशेष के लोगों ने ही बलिदान नहीं दिये। देश के कोने-कोने में ऐसे अनेक ज्ञात-अज्ञात वीर हुए हैं, जिन्होंने अंग्रेजों से युद्ध में मृत्यु तो स्वीकार की; पर पीछे हटना या सिर झुकाना स्वीकार नहीं किया। ऐसे ही एक बलिदानी वीर थे मध्य प्रदेश की नरसिंहगढ़ रियासत के राजकुमार कुँवर चैनसिंह..ऐसे वीर जिनका नाम कुछ चाटुकार इतिहासकारों ने हर सम्भव विस्मृत करने की कोशिश की पर वो सफल नहीं रहे …

सैलून चलाने वाले इखलाख खान ने बड़े शान से फेसबुक पर खुद को लिखा “जैश-ए-मोहम्मद” का सदस्य.. जबकि उसे इलाके के हिन्दू मानते थे सेक्यूलर

प्रचार होना बलिदान के चरम को नहीं दिखाता है . . भारत में कुछ लोगों ने अपने प्रचार को ही अपने बलिदान की सबसे बड़ी थाती मान लिया जिसका ढोल आज भी पीटा जा रहा है . उस ढोल में तलवारों की वो खनक भुलाने की कोशिश की गयी है जो हमारे गौरशाली पूर्वजों की सच्ची धरोहर रही है . भारत की स्वतन्त्रता के लिए किसी एक परिवार, दल या क्षेत्र विशेष के लोगों ने ही बलिदान नहीं दिये। देश के कोने-कोने में ऐसे अनेक ज्ञात-अज्ञात वीर हुए हैं, जिन्होंने अंग्रेजों से युद्ध में मृत्यु तो स्वीकार की; पर पीछे हटना या सिर झुकाना स्वीकार नहीं किया। ऐसे ही एक बलिदानी वीर थे मध्य प्रदेश की नरसिंहगढ़ रियासत के राजकुमार कुँवर चैनसिंह..ऐसे वीर जिनका नाम कुछ चाटुकार इतिहासकारों ने हर सम्भव विस्मृत करने की कोशिश की पर वो सफल नहीं रहे …

जो पार्टी सोनभद्र पर मचा रही थी सबसे ज्यादा शोर, हत्यारा निकला उसी का कार्यकर्ता

व्यापार के नाम पर आये धूर्त अंग्रेजों ने जब छोटी रियासतों को हड़पना शुरू किया, तो इसके विरुद्ध अनेक स्थानों पर आवाज उठने लगी। राजा लोग समय-समय पर मिलकर इस खतरे पर विचार करते थे; पर ऐसे राजाओं को अंग्रेज और अधिक परेशान करते थे। उन्होंने हर राज्य में कुछ दरबारी खरीद लिये थे, जो उन्हें सब सूचना देते थे। नरसिंहगढ़ पर भी अंग्रेजों की गिद्ध दृष्टि थी। उन्होंने कुँवर चैनसिंह को उसे अंग्रेजों को सौंपने को कहा; पर चैनसिंह ने यह प्रस्ताव ठुकरा दिया।  अब अंग्रेजों ने आनन्दराव बख्शी और रूपराम वोहरा नामक दो मन्त्रियों को फोड़ लिया। एक बार इन्दौर के होल्कर राजा ने सब छोटे राजाओं की बैठक बुलाई। चैनसिंह भी उसमें गये थे। यह सूचना दोनों विश्वासघाती मन्त्रियों ने अंग्रेजों तक पहुँचा दी। उस समय जनरल मेंढाक ब्रिटिश शासन की ओर से राजनीतिक एजेण्ट नियुक्त था।

केजरीवाल के सरकारी वकील को जिम्मा था कन्हैया कुमार के खिलाफ कोर्ट में मजबूती से लड़ने का लेकिन आखिर वो केजरीवाल सरकार के वकील थे

उसने नाराज होकर चैनसिंह को सीहोर बुलाया। जनरल मेंढाक चाहता था कि चैनसिंह पेंशन लेकर सपरिवार काशी रहें और राज्य में उत्पन्न होने वाली अफीम की आय पर अंग्रेजों का अधिकार रहे; पर वे किसी मूल्य पर इसके लिए तैयार नहीं हुए। इस प्रकार यह पहली भेंट निष्फल रही। कुछ दिन बाद जनरल मंेढाक ने चैनसिंह को सीहोर छावनी में बुलाया। इस बार उसने चैनसिंह और उनकी तलवारों की तारीफ करते हुए एक तलवार उनसे ले ली। इसके बाद उसने दूसरी तलवार की तारीफ करते हुए उसे भी लेना चाहा। चैनसिंह समझ गया कि जनरल उन्हें निःशस्त्र कर गिरफ्तार करना चाहता है। उन्होंने आव देखा न ताव, जनरल पर हमला कर दिया।

अब अखिलेश नहीं रहेंगे Z सुरक्षा में.. केंद्र ने लिया बड़ा फैसला

फिर क्या था, खुली लड़ाई होने लगी। जनरल तो तैयारी से आया था। पूरी सैनिक टुकड़ी उसके साथ थी; पर कुँवर चैनसिंह भी कम साहसी नहीं थे। उन्हें अपनी तलवार, परमेश्वर और माँ के आशीर्वाद पर अटल भरोसा था। दिये और तूफान के इस संग्राम में अनेक अंग्रेजों को यमलोक पहुँचा कर उन्होंने अपने वीरगति पायी। यह घटना लोटनबाग, सीहोर छावनी में 24 जुलाई, 1824 को घटित हुई थी।चैनसिंह के इस बलिदान की चर्चा घर-घर में फैल गयी। उन्हें अवतारी पुरुष मान कर आज भी ग्राम देवता के रूप में पूजा जाता है। घातक बीमारियों में लोग नरसिंहगढ़ के हारबाग में बनी इनकी समाधि पर आकर एक कंकड़ रखकर मनौती मानते हैं।

अब रिटायरमेंट के बाद होगी 5000 तक की इनकम, हर महीने जमा करे सिर्फ 42 रूपए..

इस प्रकार कुँवर चैनसिंह ने बलिदान देकर भारतीय स्वतन्त्रता के इतिहास में अपना नाम स्वर्णाक्षरों में लिखवा लिया। ऐसे स्वाभिमान के प्रतीक और भारत माता के लाल को आज उनके बलिदान दिवस पर सुदर्शन न्यूज बारम्बार नमन , वंदन और अभिनन्दन करता है . वास्तविक इतिहास को फिर से लिखने और उसके असली स्वरूप को जानने के लिए सुदर्शन की राष्ट्रनिर्माण मुहिम में सहयोग करें क्योंकि ये सर्वविदित है कि बलिदानी चैन सिंह जी अपने हाथों में तलवार ले कर गए थे ना कि चरखा इत्यादि .. और उनका खड्ग और उनका ढाल ही वो इतिहास बनाया जिसे आज हम लिख रहे हैं

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

Share This Post