हर तरफ प्रशंसा हो रही केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर की, जिनके नेतृत्व में सूचना प्रसारण मंत्रालय हिंदी में लाएगा “गीत रामायण”

पीएम मोदी के बेहद ही भरोसेमंद साथी माने जाने केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर हिन्दू के आराध्य प्रभु श्रीराम से जुड़ा एक ऐसा फैसला लिया है, जिसकी तरफ प्रशंसा की जा रही है. खबर के मुताबिक़, केंद्र सरकार “गीत रामायण” का हिन्दी रूपांतरण लाने की तैयारी कर रही है. केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के सूत्रों ने बताया है कि मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने भी इसकी मंजूरी दे दी है. सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के इस फैसले का राष्ट्र ने दिल खोलकर स्वागत किया है.

7 साल की बच्ची से बलात्कार करके उसको बेरहमी से मार डाला इमरान ने.. राष्ट्र मांग रहा अबिलंब मृत्युदंड

मंत्रालय की ओर से जारी आधिकारिक बयान के अनुसार सोमवार को हुई बैठक में सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने यह निर्णय लिया. इस फैसले की जानकारी आयुष मंत्री श्रीपद नाइक, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत और गोवा के संस्कृति मंत्री गोविंद एस गौड़े को भी पत्र के माध्यम से दे दी गई है. बता दें कि “गीत रामायण” मराठी भाषा के 56 गीतों का संग्रह है. इन गीतों में रामायण के अलग-अलग प्रसंगों का वर्णन है. मराठी भाषा के इन गीतों का दत्ता प्रसाद जोग ने हिंदी भाषा में रूपांतरण किया है.

सरकार व जिला प्रशासन के सख्ती के बावजूद,मधुबन गांव में प्रधान व सिकेट्री के द्वारा शौचालय,आवास निर्माण में जबरदस्त भ्रष्टाचार का खेल सामने आया इसकी जांच की जाये तो करोड़ों का घोटाला सामने आयेगा

आपको बता दें कि गीत रामायण का रेडियो से भी प्रसारण हो चुका था. आल इंडिया रेडियो ने सन 1955-56 में पुणे केंद्र से इसका प्रसारण किया था. इसकी रचना गजानन दिगंबर माडगूलकर ने की थी और संगीतबद्ध किया था सुधीर फड़के ने. इन गीतों का हिंदी के साथ ही बांग्ला, अंग्रेजी, गुजराती, कन्नड़, कोंकणी, संस्कृत, सिंधी भाषाओं में भी अनुवाद हुए. इसे ब्रेल लिपि में भी लिप्यांतरित किया गया है. तब इन गीतों की काफी प्रशंसा हुई थी. गायन और संगीत को भी सराहा गया था. यही कारण है कि केंद्र सरकार अब गीत रामायण का हिन्दी रूपांतरण ला रही है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

Share This Post