कुंभ स्पेशल – किन्नरों को मिला संतो का आशीर्वाद.. साथ आये किन्नर अखाड़ा व जूना अखाड़ा ..सुदर्शन न्यूज ने छेड़ी थी किन्नरों के इस्लामीकरण रोकने की मुहिम


किन्नरों के इस्लामीकरण की पूरी साजिश को बिंदास बोल में दिखाते हुए जिस प्रकार से सुदर्शन न्यूज ने उसको रोकने की मुहिम छेड़ी थी और सन्तो से इस पर ध्यान देने की अपील की थी आखिरकार उस पर हिन्दू सन्तो का ध्यान चला ही गया और उन्होंने उठाये हैं वो सकारात्मक कदम जो आने वाले  समय मे हिन्दू समाज की स्थिरता व मजबूती की दिशा में मील का पत्थर साबित होने जा रहे हैं ..कहना गलत नही होगा कि सुदर्शन न्यूज की एक और मुहिम सफलता की तरफ बढ़ गयी है और एक बड़ा समाज जो हिन्दुओ से अलग करने की साजिशकर्ताओं के बीच संघर्ष कर रहा था, वो अब मजबूती से हिन्दू समाज के साथ खड़ा रहेगा ..

जी हां, मा गंगा यमुना के पावन तट पर किन्नर अखाड़े को जूना अखाड़ा अपना आशीष दे रहा है और उसको अपना रहा है . इस के पीछे किन्नर अखाड़े की पीठाधीश्वर भवानी मां का भी संघर्ष काबिले तारीफ रहा है जिन्होंने कभी हज तक कर लेने के बाद भी अपने मूल धर्म सनातन को नहीं छोड़ा और अंत मे अपने साथ साथ तमाम किन्नरों को अखाड़े के माध्यम से हिन्दू और हिंदुत्व से जोड़े रहने में सफल रहीं ..यद्द्पि इसके चलते उन्हें तमाम धमकियों और विवादों का सामना करना पड़ा लेकिन वो अपने स्थान पर अटल रहीं..मकर संक्रांति शाही स्नान पर्व से पहले जूना अखाड़ा ने आठ संन्यासियों का महामंडलेश्वर पद पर पट्टाभिषेक कराया।

नए महामंडलेश्वरों को अखाड़ा के आचार्य महामंडलेश्वर अवधेशानंद गिरि ने आशीष दिया। ये महामंडलेश्वर कुंभ के शाही स्नान में शामिल होंगे। पूजन में लक्ष्मीनारायण त्रिपाठी सहित कई किन्नर संन्यासी भी शामिल रहे। जूना अखाड़ा से जुड़ने के बाद कुंभ मेला का यह पहला आयोजन था जिसमें किन्नर संन्यासी शामिल हुए।कुंभनगर के सेक्टर 16 में गंगा तट पर बने पंडाल में जूना अखाड़ा के ब्रह्मार्षि रविशंकर जी महाराज के नेतृत्व में आयोजित पट्टाभिषेक समारोह में स्वामी प्रज्ञानंद गिरि, कन्हैया प्रभुनंद गिरि, अशोकनाथ गिरि, घनश्याम गिरि, अविमुक्तानंद गिरि, गणेशानंद गिरि, खड़ेश्वरी गिरि व वैष्णवी देवी गिरि ने सर्वप्रथम पूजन किया। जिसके बाद अखाड़ा के प्रमुख महात्माओं ने चादरपोशी कर पट्टाभिषेक की प्रक्रिया पूरी की। फिर अखाड़ा के आचार्य महामंडलेश्वर अवधेशानंद गिरि ने सबको आशीर्वाद दिया।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share