Breaking News:

14 जून – कश्मीर के कुपवाड़ा में इस्लामिक आतंकियों का काल बने अमर योद्धा “अजय चौधरी” आज ही प्राप्त हो गए थे वीरगति को

इन्हे शायद आप न जानते हों . असल में तथाकथित स्टारों के बच्चो के नाम और उनके रुदन आदि को दिखाने से समय ही नहीं मिलता होगा वरना इन्हे भी दिखाते .. अगर इन्हे दिखाएंगे तो एक सवाल और खड़ा होगा की इन्हे मारा किस ने .. और तब जवाब आएगा की आतंकियों ने .. फिर सवाल होगा कि किन आतंकियों ने तो सच जानते हुए भी उसको न कह पाना भी उनकी मजबूरी होगी क्योकि उनको निभाने होंगे तथाकथित स्वघोषित धर्मनिरपेक्षता के कई सिद्धांत . शायद ही किसी को पता भी हो कि बलिदानी अजय चौधरी कौन थे जिन्होंने इस राष्ट्र के लिए त्याग दिए थे अपने प्राण और दे कर गए थे राष्ट्र की जनता को निर्भयता और सुरक्षा … आज उन्ही का है बलिदान दिवस.

न्यूजीलैंड की मस्जिद में जिस ब्रेंटन टैरेंट ने मारे थे 51 मुस्लिम, उसने कोर्ट में दिया ऐसा बयान कि चौंक गई दुनिया

मंगलवार 14 जून सन 2016 का समय था वो. उस दिन की सुबह 11 बजे जम्मू कश्मीर के आतंक प्रभावित मच्छल से 12 किमी दूर कटवार में घुसपैठियों को रोकने के दौरान जिले का अमर बलिदानी अजय अमरता को प्राप्त हो गया था. पार्थिव देह के साथ आए सिग्नल मैन (ऑपरेटर) और अजय के दोस्त राजेश यादव ने बताया कि मंगलवार को सुबह साढे दस बजे अजय मुझसे आखरी बार मिला था. उन्हे भारतीय सीमा में घुसपैठ की सूचना मिली थी, जिस पर उनका दल घुसपैठ रोकने के लिए मच्छल से 12 किमी दूर कटवार में सर्च ऑपरेशन चला रहा था.

14 जून- जन्मजयंती जैन सन्त आचार्य महाप्रज्ञ जी… जाने उनके पावन जीवन के बारे में

इसी दौरान सेना से डर कर भाग रहे घुसपैठियों ने एके 47 से गश्ती दल पर हमला कर दिया, जिसमें अजय चौधरी वीरगति को प्राप्त हुए थे. इस जवाब के बाद आतंकियों के पैर उखड़ गए थे और उन्हें मुँह की खानी पड़ी थी जिसमे बड़ा योगदान था बलिदान हुए जांबाज़ अजय चौधरी जी का. इस वीर बलिदानी के अंतिम यात्रा को आम जनता ने जयकारों के साथ हजारों लोगों की संख्या के साथ किया था नमन .. उस समाय ”अजय शहीद अमर रहे, अजय तेरा यह बलिदान याद रखेगा हिन्दूस्तान ” जैसे गगनभेदी नारों के साथ गुरूवार की शाम झुंझुनू के इस अमर योद्धा  की शव यात्रा जैसे ही उनके घर से रवाना हुई, तो हर आंख से आसू निकल रहा था.

9 साल की बच्ची के बलात्कारी शहनवाज को कोर्ट में देख भड़क गए वकील.. फिर जो हुआ वो वहां सबने देखा

झुंझुनू ढिगाल रोड के पास पूर्ण राजकीय सम्मान के साथ शहीद का अंतिम संस्कार किया गया था, शहीद के साथ आए सेना के जवानों और राजस्थान पुलिस के जवानों ने शहीद को गार्ड ऑफ ऑनर दिया. आज उस परम बलिदानी के बलिदान दिवस पर सुदर्शन न्यूज उस महायोद्धा को नमन करता है और उनकी गौरवगाथा को सदा सदा के लिए अमर रखने का संकल्प लेता है .  जय हिन्द की सेना .

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW