10 अप्रैल- 1962 युद्ध में सैकड़ों चीनी सैनिकों को मार कर, फिर उनकी जेल तोड़ सकुशल वापस आये परमवीर मेजर धन सिंह थापा जयंती

आज ही के पावन दिन अर्थात 10 अप्रैल 1928 को हिमाचल प्रदेश के शिमला में एक साधारण परिवार में जन्मे धनसिंह थापा जी ने अपनी देश सेवा की भावना से 1949 में एक कमीशंड अधिकारी के रूप में सेना में शामिल हुए। जब 1962 में चीन ने भारत पर आक्रमण की तैयारी की, तब भारत इसके लिए बिलकुल भी तैयार नहीं था न ही राज‍नयिकों की मन:स्थिति वैसी थी। मेजर धन सिंह थापा परमवीर चक्र से सम्मानित नेपाली मूल के भारतीय थे। उन्हें यह सम्मान सन १९६२ के चीन से हुए युद्ध में अद्भुत पराक्रम से लड़ने के उपरान्त मिला था . 1962 के भारत-चीन युद्ध में जिन चार भारतीय बहादुरों को परमवीर चक्र प्रदान किया गया, उनमें से केवल एक वीर उस युद्ध को झेलकर जीवित रहा, उस वीर का नाम धन सिंह थापा था जो 1/8 गोरखा राइफल्स से, बतौर मेजर इस लड़ाई में शामिल हुआ था।

धन सिंह थापा भले ही चीन की बर्बर सेना का सामना करने के बाद भी जीवित रहे, लेकिन युद्ध के बाद चीन के पास बन्दी के रूप में जो यातना उन्होंने झेली, उसकी स्मृति भर भी थरथरा देने वाली है। धन सिंह थापा इस युद्ध में पान गौंग त्सो (झील) के तट पर सिरी जाप मोर्चे पर तैनात थे, जहाँ उनके पराक्रम ने उन्हें परमवीर चक्र के सम्मान का अधिकारी बनाया। शिमला के धनसिंह थापा ने लद्दाख में मोर्चा संभालते हुए सैकड़ों चीनी सैनिकों को मौत के घाट उतार दिया था। मेजर धन सिंह थापा अगस्त 1949 में भारतीय सेना के आठवीं गोरखा राइफल्स में कमीशन अधिकारी के रूप में शामिल हुए थे। थापा ने 1962 के भारत-चीन युद्ध के दौरान लद्दाख में चीन की सेना का बहादुरी से सामना किया था। लद्दाख के उत्तरी सीमा पर पांगोंग झील के पास सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण चुशूल हवाई पट्टी को चीनी सेना से बचाने के लिए सिरिजाप घाटी में गोरखा राइफल्स की कमान संभाली।

11 अप्रैल – बलिदान दिवस, बलिदानी खाज्या नायक. मंगल पाण्डेय जैसा ही एक महायोद्धा जिसने ब्रिटिश आर्मी में होते हुए की बगावत और प्राप्त की अमरता

12 अक्टूबर 1962 को सिरिजाप वन चौकी में प्लाटून सी में मेजर धन सिंह थापा ने दुश्मनों से युद्ध लड़ा। 20 अक्टूबर 1962 को सुबह छह बजे एक बार फिर पूरी ताकत से चीन के सैनिकों ने सिरिजाप चौकी पर हमला कर दिया। भारतीय चौकी तबाह हो गई और कई जवान बलिदान हो गए। इस चौकी पर चीन के सैनिकों का नियंत्रण हो गया और उन्हें तीन साथियों के साथ युद्ध बंदी बना लिया गया।गोरखा परंपरा का निर्वहन करते हुए धन सिंह थापा ने चीनी युद्धबंदी शिविर से चीनी चौकसी को धता हुए, वहां से भागने में सफल हुए । कई दिनों पहाडियों में भटकते रहने के बाद थापा भारतीय सीमा क्षेत्र में प्रविष्ट हुए और भारतीय सैनिक चौकी तक पहुंचे , घायल अवाष्ठ में होने के बावजूद बुलंद हौंसले ने अन्य भारतीय जवानो में भी नव उत्साह का संचार कर दिया । इस घटना ने ना केवल चीनी पक्ष का मनोबल गिराया वरन भारतीय सैनिको की निर्भीकता से दुनियाभर को सन्देश दिया ।

जमात-ए-इस्लामी के बाद सुन्नी उलेमा बोले- “मुसलमानो! हिन्दू पार्टी को नहीं बल्कि अपनी कौम के हक़ में वोट करो”

अपने दुश्मनों से वीरता से लड़ने के कारण भारतीय सरकार ने सेना का सर्वोच्च सम्मान “परमवीर चक्र ” देकर धन सिंह थापा को सम्मानित किया . इस घटना के बाद भी धन सिंह थापा ने भारतीय सेना को अपनी सेवाए दी और सेना से लेफ्टिनेंट कर्नल के पद से रिटायर हुए । 6 सितम्बर 2005 को इस वीर गोरखा सपूत ने दुनिया को अलविदा कह दिया. आज वीरता के उस महान मूर्ति को उनके जन्म दिवस पर सुदर्शन परिवार बारम्बार नमन और वंदन करते हुए उनकी गौरवगाथा को सदा सदा के लिए अमर रखने का संकल्प लेता है . मेजर धन सिंह थापा जी अमर रहें .. जय हिन्द की सेना .

मुजफ्फरनगर से बड़ी खबर.. बुर्के की आड़ में कराई जा रही फर्जी वोटिंग

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share