शहीद भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव के शहीदी दिवस पर सुदर्शन न्यूज़ करता है शत-शत नमन


नई दिल्ली : देश की आजादी के लिए अपनी जान की बाजी लगने वाले अमर शहीद भगत सिंह, राजगुरु व सुखदेव को आज के दिन यानि 23 मार्च 1931 को फांसी दी गई थी। भारत माता के इन सपूतों ने भारतीय स्वाधीनता की थाली में अपने प्राणों को सजाया।

8 अप्रेल 1929 को इन्होंने केंद्रीय विधायी सभा में इंकलाब जिंदाबाद का नारा लगाया। भगत सिंह ने वहां भारतीय स्वतंत्रता के पर्चे बिखेरे, वहीं बम भी फेंका था। शहीद भगत सिंह, राजगुरू और सुखदेव आजादी के दीवाने थे, जिन्होंने देश के खातिर हंसते-हंसते फांसी के फंदे को चूम लिया।

इस देश की आजादी में न जाने कितने लोगों ने बलिदान दिया है। देश के स्वाधीनता इतिहास के पृष्ठों को यदि पलटकर देखा जाये तो जिस तरह से भगत सिंह, राजगुरू व सुखदेव ने अंग्रेजों को लोहे के चने चबवाये और चकमा दिया, ऐसे बिरले ही लोग आजादी के दीवाने देखने को मिलते है।

न वे अंग्रेजों से डरे और न झुके, बस भारत माता को अंग्रेजों की गुलामी की जंजीरों से मुक्त कराने का ही इनका स्वप्न था। आज शहीद दिवस पर शहीदों को श्रद्धासुमन अर्पित होकर उनकी शहीदी को नमन है। वहीं, पीएम मोदी ने इस अवसर पर ट्वीट कर शहीदों को याद किया। पीएम ने लिखा कि देश उनके बलिदान और साहस को कभी नहीं भूल सकता।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...