योगी के प्रयासों से त्रेता युग की तरफ श्रीराम की अयोध्या नगरी.. बनने जा रहा एयरपोर्ट जिसका नाम होगा “श्रीरामचन्द्र”

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रयासों से मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्रीराम की नगरी अयोध्या त्रेता युग की तरफ जाती हुई दिखाई दे रही है. मुख्यमंत्री बनने के बाद से ही पावन अयोध्या नगरी पर योगी आदित्यनाथ की नजर है, जिसे वह एकतरह से तीर्थों का केंद्र बनाना चाहते हैं, एक बड़ा पर्यटन स्थल बनाना चाहते हैं. इसके लिए योगी आदित्यनाथ अपने स्तर पर कार्य कर रहे हैं तथा अयोध्या को विकसित करने क्ले लिए तेजी से काम किया जा रहा है.

आपको बता दें कि योगी आदित्यनाथ अयोध्या में एयरपोर्ट बनाने जा रही है, जिसका नाम श्रीरामचंद्र एयरपोर्ट होगा. इसके लिए योगी सरकार ने 200 करोड़ रुपए की मंजूरी दे दी है. सिविल एविएशन डिपार्टमेंट की तरफ से ये राशि जमीन अधिग्रहण के लिए जारी की गई है. जानकारी के मुताबिक इस एयरपोर्ट की कुल लागत करीब 600 करोड़ रुपए बताई गई है. इस एयरपोर्ट के लिए मौजूदा हवाई पट्टी पर करीब 177 एकड़ जमीन मौजूद है. अब सरकार द्वारा जारी की राशि से करीब 290 एकड़ जमीन का और अधिग्रहण किया जाना है.

कहा जा रहा है कि यहां पर सिविल एयरपोर्ट बनने के बाद सैलानियों की संख्या में इजाफा होगा. अयोध्या हिंदू धर्म की वैश्विक आस्था का केंद्र है. हर साल यहां लाखों की संख्या में श्रद्धालु देशभर से आते हैं. अगर यह जगह एयरपोर्ट से कनेक्ट हो जाएगी तो दूर दराज से आने वाले सैलानियों को यहां तक पहुंचने में आसानी होगी. गौरतलब है कि हाल ही में अयोध्या में सीएम योगी ने कहा था कि अयोध्या जैसा इतिहास दुनिया में कही नहीं है. हमने पिछले 2 सालों में अयोध्या में हमने काफी कुछ बदलाव किया. जब लोगों ने अयोध्या की दीपावली को देखा तो लोग भावुक हो गए.

सीएम योगी ने कहा कि अयोध्या पर्यटन के लिहाज से महत्वपूर्ण जगह बने इस कार्ययोजना पर कार्य हो रहा है. वहीं राम मंदिर बने हर कोई चाहता है, लेकिन बड़े कार्य के लिए भूमिका भी बड़ी होनी चाहिए. यहां का नौजवान रोजगार के लिए बाहर क्यों जाए, जबकि उसके पास अयोध्या है. अयोध्या को उचाईयों तक पहुचाने के लिए हम काम कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि कुम्भ ने दुनिया के सामने अपनी छाप छोड़ी है. वहीं अयोध्या में सफाई को लेकर विशेष पहल की ज़रूरत है.

Share This Post