12 फरवरी – धर्मग्रन्थों में मिलावट करने की ब्रिटिश व मुगल साजिश को ध्वस्त करने वाले महर्षि दयानंद सरस्वती जयंती की समस्त धार्मिकों को हार्दिक शुभकामनाएं - Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News, Latest Khabar -

Breaking News:

12 फरवरी – धर्मग्रन्थों में मिलावट करने की ब्रिटिश व मुगल साजिश को ध्वस्त करने वाले महर्षि दयानंद सरस्वती जयंती की समस्त धार्मिकों को हार्दिक शुभकामनाएं


जब अंग्रेजों ने भारत के अनंत काल से जीवंत सभ्यता का अध्ययन किया तो उन्होंने ये पाया था कि सनातन सभ्यता के कभी खत्म न होने के पीछे उनके वो संस्कार व जीवनशैली हैं जो उन्हें उनके धर्मग्रन्थों द्वारा कभी एक इतिहास के रूप में तो कभी एक पथप्रदर्शक के रूप में सही राह दिखाते रहते हैं.. इसीलिए मैक्समूलर नाम के एक अंग्रेज साजिशकर्ता ने भारत के धर्मग्रन्थों में मिलावट शुरू कर दी और मैकाले नाम के एक अन्य ब्रिटिश साजिशकर्ता ने उस मिलावट का ऐसा दुष्प्रचार शुरू कर दिया जो बाद में न्याय, नीति आदि के पथ से भटकाने लगा अनंत काल से अपनी परंपराओं पर अटल रहे भारतवासियों को ..

उस साजिशों के दौर में एक नाम निकला जिन का आज जन्मदिवस है.. वो नाम है महर्षि दयानंद जी का जिन्होंने अकेले ही अपनी बुद्धिमता से उन तमाम साजिशों का न सिर्फ प्रतिकार किया बल्कि समाज के एक बड़े वर्ग में ये सन्देश देने में भी कामयाब रहे कि सत्य सनातनी कई साजिशों के निशाने पर हैं.. जब उन विदेशी साजिशकर्ताओं के तमाम मंसूबे नाकाम होने लगे तो फूट डालो राज करो के नारों वाले उन्होंने महर्षि दयानंद जी को ही सनातनियो से अलग दिखाने की अफवाह फैला दी और उनको अलग थलग करने की कोशिश उस समाज से करने लगे जिस समाज को उन्होंने ब्रटिश व मुगल षड्यंत्रों से मुक्त करवाने का संकल्प लिया था ..लेकिन आखिरकार सत्य की ताकत के आगे झूठ का भ्रम ज्यादा देर तक नही टिका और महर्षि दयानंद जी ने धर्मग्रंथों को उनके मूल रूप में वापस लाने में सफलता प्राप्त की..

कोरोना से पीड़ित गरीब लोगो के लिए आर्थिक सहयोग

स्वामी दयानन्द सरस्वती का जन्म गुजरात के भूतपूर्व मोरवी राज्य के टकारा गाँव में 12 फरवरी 1824 (फाल्गुन बदि दशमी संवत् 1881) को हुआ था।  मूल नक्षत्र में जन्म लेने के कारण आपका नाम मूलशंकर रखा गया।  आपके पिता का नाम अम्बाशंकर था। आप बड़े मेधावी और होनहार थे।  मूलशंकर बचपन से ही विलक्षण प्रतिभा के धनी थे।  दो वर्ष की आयु में ही आपने गायत्री मंत्र का शुद्ध उच्चारण करना सीख लिया था। घर में पूजा-पाठ और शिव-भक्ति का वातावरण होने के कारण भगवान् शिव के प्रति बचपन से ही आपके मन में गहरी श्रद्धा उत्पन्न हो गयी। अत: बाल्यकाल में आप शंकर के भक्त थे।  कुछ बड़ा होने पर पिता ने घर पर ही शिक्षा देनी शुरू कर दी।  मूलशंकर को धर्मशास्त्र की शिक्षा दी गयी। उसके बाद मूलशंकर की इच्छा संस्कृत पढने की हुई।

चौदह वर्ष की आयु तक मूलशंकर ने सम्पूर्ण संस्कृत व्याकरण, `सामवेद’ और ‘यजुर्वेद’ का अध्ययन कर लिया था। ब्रह्मचर्यकाल में ही आप भारतोद्धार का व्रत लेकर घर से निकल पड़े। मथुरा के स्वामी विरजानंद इनके गुरू थे।  शिक्षा प्राप्त कर गुरु की आज्ञा से धर्म सुधार हेतु ‘पाखण्ड खण्डिनी पताका’ फहराई। चौदह वर्ष की अवस्था में ये धर्म विरुद्ध साजिशों को पहचान गये और इक्कीस वर्ष की आयु में घर से निकल पड़े।  घर त्यागने के पश्चात 18 वर्ष तक इन्होंने सन्यासी का जीवन बिताया। इन्होंने बहुत से स्थानों में भ्रमण करते हुए तमाम आचार्यों से शिक्षा प्राप्त की।धर्म सुधार हेतु अग्रणी रहे दयानंद सरस्वती ने 1875 में मुंबई में आर्य समाज की स्थापना की थी।  वेदों का प्रचार करने के लिए उन्होंने पूरे देश का दौरा करके पंडित और विद्वानों को वेदों की महत्ता के बारे में समझाया।

स्वामी जी ने धर्म परिवर्तन कर चुके लोगों को पुन: हिंदू बनने की प्रेरणा देकर शुद्धि आंदोलन चलाया।  1886 में लाहौर में स्वामी दयानंद के अनुयायी लाला हंसराज ने दयानंद एंग्लो वैदिक कॉलेज की स्थापना की थी।  हिन्दू समाज को इससे नई चेतना मिली और अनेक संस्कारगत कुरीतियों से छुटकारा मिला।  स्वामी जी एकेश्वरवाद में विश्वास करते थे।  उन्होंने जातिवाद और बाल-विवाह का विरोध किया और नारी शिक्षा तथा विधवा विवाह को प्रोत्साहित किया।  उनका कहना था कि किसी भी अहिन्दू को हिन्दू धर्म में लिया जा सकता है।  इससे हिंदुओं का धर्म परिवर्तन रूक गया। समाज सुधारक होने के साथ ही दयानंद सरस्वती जी ने अंग्रेजों के खिलाफ भी कई अभियान चलाए।

“भारत, भारतीयों का है’ यह अँग्रेजों के अत्याचारी शासन से तंग आ चुके भारत में कहने का साहस भी सिर्फ दयानंद में ही था।  उन्होंने अपने प्रवचनों के माध्यम से भारतवासियों को राष्ट्रीयता का उपदेश दिया और भारतीयों को देश पर मर मिटने के लिए प्रेरित करते रहे। अँग्रेजी सरकार स्वामी दयानंद से बुरी तरह तिलमिला गयी थी। स्वामीजी से छुटकारा पाने के लिए, उन्हें समाप्त करने के लिए तरह-तरह के षड्यंत्र रचे जाने लगे।  स्वामी जी का 1883 को दीपावली के दिन संध्या के समय देहांत हो गया।  स्वामी दयानंद सरस्वती ने अपने विचारों के प्रचार के लिए हिन्दी भाषा को अपनाया।

उनकी सभी रचनाएं और सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण ग्रंथ ‘सत्यार्थ प्रकाश’ मूल रूप में हिन्दी भाषा में लिखा गया।  आज भी उनके अनुयायी देश में शिक्षा आदि का महत्त्वपूर्ण कार्य कर रहे हैं। आज धर्मग्रन्थों के उन ररक्षक को उनकी पावन जयंती पर सुदर्शन परिवार बारंबार नमन व वंदन करते हुए उनके राष्ट्रहित व धर्मरक्षा के कार्यों को असल रूपों में समाज के आगे लाते रहने का संकल्प लेता है ..

 


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share