तेलंगाना में चुनाव से पहली ही कांग्रेस टूटना शुरू .. कद्दावर नेता ने छोड़ी पार्टी

जिन पार्टियों के साथ कभी कांग्रेस ने महागठबंधन बना कर भारतीय जनता पार्टी को शिकस्त देने के सपने देखे थे अब उन्ही पार्टियों ने कांग्रेस को अन्दर से खोखला करना शुरू कर दिया जिस प्रकार से कल की ये घटना हुई है . TRS जो के चन्द्रशेखर राव के नेतृत्व में सरकार चला रही थी तेलंगाना में उस पार्टी के प्रमुख ने पहले तो राहुल गाँधी को भारत को सबसे बड़ा मसखरा बता दिया था तो अब कांग्रेस पार्टी में मार दी है एक बड़ी सेंध .

ज्ञात हो की कांग्रेस के लिए उस समय बड़ा झटका लगा जब प्रदेश में कांग्रेस पार्टी की रीढ़ कहे जाने वाले वरिष्ठ नेता और प्रदेश विभाजन से पहले एकीकृत आंध्र प्रदेश में विधानसभा के अध्यक्ष रहे के. सुरेश रेड्डी ने कांग्रेस को अलविदा कह दिया .. इतना ही नहीं बिना देर किये उन्होंने तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) का दामन थाम लिया और आने वाले समय में कांग्रेस को पटखनी देने की तैयारी शुरू कर दी .

पार्टी के मुख्यालय तेलंगाना भवन में आयोजित एक संक्षिप्त कार्यक्रम में सुरेश रेड्डी ने अपने कई समर्थकों के साथ तेलंगाना राष्ट्र समिति का दामन थामते हुए कहा कि तेलंगाना राष्ट्र समिति की सरकार ने राज्य के लिए कई विकास कार्य और कल्याणकारी योजनाएं शुरू की और उसका एजेंडा भी साफ है। इसीलिए वह कांग्रेस पार्टी को छोड़कर टीआरएस में शामिल हो रहे हैं। इस अवसर पर पूर्व मंत्री नेरेल्ला आंजनेयुलू, पूर्व विधायक सत्यनारायण गौड़, बंडारी लक्ष्मा रेड्डी सहित तमाम कांग्रेस नेतागण टीआरएस में शामिल हुए। उत्तर भारत पर ज्यादा फोकस कर के चल रही कांग्रेस के लिए दक्षिण भारत में ये खिसकती जमीन चिंता का विषय है .

Share This Post