“भाजपा हिंदुत्व को जिंदा कर रही है ईसाईयों, अगर उसे वोट दिया तो ईसा मसीह का दिल होगा घायल”…जानिए कौन है ये

वैसे तो भारत एक धर्म निरपेक्ष देश कहा जाता है लेकिन यहां धर्मनिरपेक्षता का सिद्धांत पालन करने के लिए केवल हिंदुओं को देखा जाता है ..हिन्दू यदि कहीं भी हिंदुत्व का नाम भी ले ले तो उस पर उन्मादी होने का आरोप लग जाये लेकिन कोई खुलेआम फतवे निकाल कर हिन्दुओ के खिलाफ ईसाईयत की बात करे तो उसने न जाने किस प्रकार की धर्मनिरपेक्ष परछाई देखा जाता है ..

ताजा जानकारी के अनुसार भारत के धर्म निरपेक्ष सिद्धांत को ध्वस्त करते हुए नगालैंड बापटिस्ट चर्च काउंसिल ने सभी राजनीतिक दलों से अपील की है कि वो ऐसे लोगों का साथ किसी भी हालत में न दें जो कि ईसा मसीह के सिद्धांतों का पालन नहीं करते हैं.  ध्यान रजे की यदि कोई हिन्दू समूह प्रभु श्रीरामचन्द्र के नाम पर ऐसे लेटर जारी किया होता तो अब तक शत प्रतिशत उसको उन्मादी हरकत बता कर सेकुलर ब्रिगेड धावा बोल चुकी होती ..

कट्टर ईसाईयों के इस समूह ने आगे फतवा के अंदाज़ में लिखा है कि  ‘पिछले कुछ सालों में हिंदुत्व आंदोलन मजबूत हुआ है’ आरएसएस की राजनीतिक शाखा बीजेपी के सत्ता में आने के बाद से हिंदुत्व आंदोलन मजबूत हुआ है. भाजपा को वोट न देने की अपील करते हुए ईसा मसीह तक का हवाला देते हुए कहा गया है कि ऐसे संगठन को वोट देना ईसा मसीह तक की आत्मा को चोट पहुचाना होगा ..इस हरकत पर छाई ये खामोशी गवाह है कि एकतरफा हिंदुओं को किस प्रकार से तथाकथित सेकुलर ब्रिगेड द्वारा निशाना बनाया जा रहा है और किस प्रकार से वर्ग विशेष की कट्टरता को पोषित और मूक रह कर संरक्षित किया जा रहा ..

‘ईसाई सिद्धांतों को न छोड़े’

एनबीसीसी के महासचिव रिव ने लिखा है कि नागालैंड एक ऐसा राज्य है जहां ईसाई बहुसंख्यक है. सभी के सामने यह मौका है कि वह अपने ईसाई सिद्धांतों को नहीं छोड़े. साथ ही ऐसे लोगों का साथ न दें जो ‘ईसा मसीह के हृदय को बेधना’ चाहते हैं.

Share This Post