जिसके ऊपर हैं बलात्कार के आरोप, वो लड़ने जा रहा उस पार्टी से चुनाव जो महिला सम्मान के लिए उठा रही सबसे ज्यादा आवाज

वो उस पार्टी से चुनाव लड़ रहा है जिसकी मुखिया महिला स्वाभिमान की बड़ी-बड़ी बातें करती हैं, खुद को महिला अस्मिता की ;लड़ाई लड़ने वाली योद्धा बताती हैं. हम बात कर रहे हैं बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती की जो जो खुद को नारी स्वाभिमान की बड़ी पैरोकार बताती हैं तथा बलात्कार का तीव्र विओध करती है लेकिन इन्हीं मायावती जी ने अपनी पार्टी से एक ऐसे व्यक्ति को हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए टिकट दिया है, जिसके ऊपर बलात्कार का आरोप है.

खबर के मुताबिक़, हरियाणा के पलवल जिले की हथीन सीट से बीएसपी ने तैयब हुसैन को उम्मीदवार बनाया है. इलाके में बाहुबली की छबि रखने वाले तैयब पर साल 2016 में एक नाबालिग लड़की से रेप करने का मामला सामने आया था. उस वक्त भी इसको लेकर काफी बवाल मचा था, हालांकि अपने बाहूबल से तैयब हुसैन ने इस मामले को पूरी तरह से दबाने की कोशिश की, लेकिन लड़की का परिवार तमाम धमकियों के बावजूद भी पीछे नहीं हटा और कोर्ट में अपने बयानों पर कायम रहा.

तैयब की गुंडई का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि एक बार उसकेके परिवार ने अदालत में अपने बयान दर्ज करा कर लौट रही पीड़ित नाबालिग को अगवा करने की भी कोशिश की. यहेने बल्कि इसके बाद जब पुलिस ने इनको रोकने की कोशिश की तो तैयब के परिवार ने पुलिसवालों के साथ भी मारपीट की. अब वही तैयब उस बसपा से चुनाव लड़ रहा है, जिस बसपा की अध्यक्ष मायावती महिला स्वाभिमान की पैरोकार बनी घूमती हैं.

पीड़िता के भाई के मुताबिक, इस मामले को उसके अंजाम तक ले जाने के लिए वो कुछ भी करेंगे. हालांकि उनकी आर्थिक स्थिति बेहद खराब है और समाज में भी मामले को लेकर उनके परिवार की बेहद बदनामी हुई है. बावजूद इसके वो मामले को हाईकोर्ट तक ले गए हैं और अब चंडीगढ़ हाईकोर्ट ने पुलिस को आदेश दिए हैं कि वो आरोपी तैयब का डीएनए सैंपल ले ताकि उसका मिलान पीड़िता के कपड़ों पर मिले सबूतों से किया जा सके.

तैयब की कारगुजारी यहीं तक नहीं रुकती है बल्कि तैयब हुसैन का एक ऑडियो क्लिप भी वायरल हुआ है, जिसमें वो एक महिला के साथ अश्लील बातें कर रहा है और इस ऑडियो में वो एक दलित लड़की के बारे में जातिसूचक शब्द भी कह रहा है. ऐसे में सवाल ये उठता है कि दलितों के नाम पर वोट मांगने वाली बसपा एक ऐसे शख्स को अपना उम्मीदवार कैसे बना सकती है, जो दलितों के बारे में ऐसे शब्दों का इस्तेमाल कर रहा हो, जो बलात्कार का आरोपी हो.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW