हिन्दुओ के खिलाफ लगातार बयान देती अलका लाम्बा ने अब दिया एक और बयान.. लेकिन बयान उनके अपनों पर है


शायद इनके बयान किसी ख़ास मकसद से आया करते थे या वो बयान पार्टी में अपना कद बढाने की योग्यता के लिए जरूरी हुआ करता था . ये बात चल रही है हिन्दू और हिन्दू संगठनों के खिलाफ अपने तमाम बयानो के चलते चर्चा में रहने वाली आम आदमी पार्टी कीई महिला विधायक अलका लाम्बा की . अलका लाम्बा को कभी टीम केजरीवाल की सबसे ख़ास सदस्या माना जाता था और उनका वही ओहदा था जो कुमार विश्वास , कपिल मिश्रा , योगेन्द्र यादव आदि का है .

लेकिन अब उनका हाल भी लगभग उनके जैसा होने की आशंका जताई जा रही है उनकी ही पार्टी में . ज्ञात हो कि अलका लाम्बा का नया बयान उनकी पार्टी के लिए चिंता न सही पर विचार का विषय जरूर बन सकता है और वो भी उस समय पर जब अरविन्द केजरीवाल आने वाले २०१९ के अति महत्वपूर्ण लोकसभा चुनावों के लिए बन रहे महागठबंधन में अपनी मजबूत स्थिति दिखाने के लिए जी तोड़ कोशिश कर रहे हैं . ये बयान उनकी स्थिति को मजबूत नहीं बल्कि कमजोर करेगा .

आम आदमी पार्टी (आप) की विधायक अलका लांबा ने दावा किया कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उन्हें ट्विटर पर ‘अनफॉलो’ कर दिया है और उन्हें मौजूदा हालात में पार्टी में काम करने में दिक्कत हो रही है. इससे पहले, पिछले साल दिसंबर में लांबा ने दावा किया था कि आप ने उनसे पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी से भारत रत्न वापस लेने के कथित प्रस्ताव का विरोध करने को लेकर इस्तीफा मांगा था. हालांकि, आप ने इस दावे को खारिज कर दिया था. चांदनी चौक से विधायक ने बताया कि मुझे ऐसा लगता है कि पार्टी अब मेरी सेवा नहीं चाहती. लेकिन जब तक मैं विधायक हूं, अपने क्षेत्र के लोगों के लिए काम करना जारी रखूंगी. लांबा ने कहा कि उन्होंने आप नेतृत्व को एक संदेश भेज कर यह पूछा है कि वह उनके प्रति अपना रूख स्पष्ट करें.

 


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...