राहुल गांधी को सिर्फ चारा पसंद है, सर्जिकल स्ट्राइक उन्हें पसंद नहीं– अमित शाह

अगले लोकसभा चुनावों में अभी काफी समय बाकी है लेकिन उससे पहले ही सभी राजनैतिक दलों ने अपने दाव-पेंच चलना शुरू कर दिए हैं. खासकर भारतीय जनता पार्टी इस मामले में सबसे आगे नजर आ रही है, इसका कारण ये है कि अगले लोकसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी का मुकाबला विपक्ष से हो सकता है. इसीलिये भाजपा अभी से अपने को मजबूत करने में  जुट गई है तथा अपने विरोधियों पर लगातार निशाना साध रही है. इसी क्रम में भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह हाल ही में पटना पहुंचे था वाहना बिहार के मुख्यमंत्री तथा जदयू प्रमुख नीतीश कुमार से मुलाक़ात की. नीतीश कुमार से मुलाक़ात के बाद भाजपा अध्यक्ष ने राहुल गांधी पर तीखा हमला किया.

राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने उन्हें चारा प्रिय करार दिया. बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद से निकटता के चलते राहुल केवल चारा की प्रशंसा करेंगे न कि भारतीय सेना के किसी सैन्य अभियान की. बीजेपी नीत गठबंधन में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के असहज महसूस करने, आरजेडी और कांग्रेस के साथ महागठबंधन में उनके लौटने के कयासों पर शाह ने इस तरह की किसी भी संभावना से इनकार किया. उन्होंने कहा कि विरोधियों को कोई उम्मीद नहीं पालनी चाहिए क्योंकि नीतीश कुमार भ्रष्ट लोगों के साथ नहीं जा रहे हैं. शाह ने सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाने के लिए राहुल गांधी पर तंज कसते हुए कहा, ‘आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद के साथ निकटता होने के कारण वह केवल चारे की प्रशंसा करेंगे न कि इस तरह के किसी सैन्य अभियान की.’

बीजेपी के पदाधिकारियों को पटना में संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि अमेरिका और इस्राइल के बाद भारत दुनिया का तीसरा देश है जो इस तरह की सर्जिकल स्ट्राइक करता है. कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, राधा मोहन सिंह, अश्विनी चौबे और रामकृपाल यादव, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, राज्य बीजेपी के अध्यक्ष नित्यानंद राय और अन्य मौजूद थे.  बीजेपी प्रमुख ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि अपनी चार पीढ़ी के शासन में उसने भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने के अलावा कुछ नहीं किया. जबकि नरेन्द्र मोदी सरकार ने सर्वांगीण विकास किया है और केवल साढ़े चार वर्षों में देश की प्रतिष्ठा बढ़ा दी है. शाह ने दावा किया कि अर्थशास्त्री प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल में कांग्रेस ने देश की अर्थव्यवस्था की स्थिति खराब कर दी और फिर चाय विक्रेता के बेटे मोदी ने इसे दुनिया की सबसे तेज बढ़ती अर्थव्यवस्था में तब्दील कर दिया. उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार के कार्यकाल में बिहार को केवल 1.93 लाख करोड़ रुपए मिले. जबकि एनडीए के शासनकाल में राज्य को 4.33 लाख करोड़ रुपए दिए गए. साथ ही यह धन जमीनी स्तर तक लोगों के पास पहुंच रहा है न कि चारा घोटाले की तरह इसका दुरुपयोग किया जा रहा है.

Share This Post

Leave a Reply