राहुल गाँधी की शिवभक्ति देखते हुए कांग्रेस नेता हसीब अहमद ने लगा दिया बम बम भोले का नारा. इस नारे को राजबब्बर ने सुन लिया और फिर ..

कुछ दिन पहले कांग्रेस ने अपने आप को हिंदुत्व की समर्थक दिखाने के लिए तमाम प्रयास किये . इसमें राहुल गाँधी का मन्दिरों में जाना और बाद में कैलाश मानसरोवर जाना प्रमुख था . इसके बाद राहुल गाँधी कई पोस्टरों और बैनरों में कभी श्रीराम भक्त और कभी महादेव शिव के भक्त के रूप में देखे गये .. यद्दपि इस हिंदूवादी छवि का लाभ कांग्रेस को गुजरात के चुनाव में भी मिला जब उसने अन्य बार की तरह अपेक्षाकृत भाजपा को कड़ी टक्कर दी. लेकिन अचानक ही अब जो मामला सामने आ रहा है उसके बाद कांग्रेस की हिंदूवादी छवि पर झटका सा लगा है .

विदित हो कि राहुल गाँधी की इसी हिंदूवादी छवि और महादेव शिव की भक्ति को देखते ही उनकी पार्टी कांग्रेस के लिए अपने जीवन का एक बड़ा समय समर्पित कर देने वाले एक नेता को मिला बहुत ही बुरा सिला जो उसको हिला कर रख दिया . विदित हो कि मध्‍य प्रदेश विधानसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी मानसरोवर यात्रा करके आए। भोपाल में जब रोड शो करने निकले तो भोलेनाथ के गूंज हर जगह दिखी। अमेठी गए तो भी शिव का आशीर्वाद लिया, लेकिन इलाहाबाद में न जाने ऐसा क्‍या हो गया कि कांग्रेस ने अपनी पार्टी के एक पदाधिकारी को शिवभक्ति पर दंड दे डाला।

खबर कुछ यूं है कि राहुल गांधी 28 सितंबर को मध्‍य प्रदेश के चित्रकूट गए थे, जहां उन्‍होंने जनसभा को संबोधित किया। लौटते वक्‍त इलाहाबाद के बमरौली एयरपोर्ट पर राहुल गांधी कुछ समय रुके थे। इस दौरान उनके सामने हर-हर महादेव और बम बम भोले के नारे लगाए थे। नारे लगाने वालों में युवा कांग्रेस के प्रदेश सचिव हसीब अहमद भी थे। कांग्रेस पार्टी के जिलाध्‍यक्ष को बम भोले के नारे लगाना ठीक नहीं लगा। उन्‍होंने कांग्रेस प्रदेश अध्‍यक्ष राज बब्‍बर को पत्र लिखकर हसीब अहमद को बर्खास्‍त करने को कहा है। अब कांग्रेस के खुद के कई शिवभक्त कार्यकर्ता ये समझ नहीं पा रहे है कि आखिर महादेव शिव के जयकारे केरे लगाने पर क्‍यों पार्टी नेता को बर्खास्‍त क्यों किया गया जिस पर अभी तक कोई जवाब नहीं आया है .


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share