Breaking News:

भगवा आतंकवाद कहने और साध्वी प्रज्ञा पर अत्याचार का समर्थन करने के बाद भी शरद पवार से अलग हो रहे मुस्लिम नेता.. NCP का पूर्व विधायक अब ओवैसी के साथ

कहा जाता है कि बुरे वक्त पर ही अपने पराये की पहिचान होती है और वो समय आज के परिपेक्ष्य में शरद पवार के लिए सबसे सही कहा जा सकता है . मुस्लिम वोटरों को खुश करने के लिए शायद ही ऐसा कोई काम हो जो शरद पवार ने नहीं किया रहा हो लेकिन अब उनके लिए दिक्कत ये है कि उनका साथ उनके वो साथी छोड़ रहे हैं जो हिन्दू मानसिकता के थे और उसके साथ ही वो मुस्लिम नेता भी छोड़ रहे है जो कभी उनके टिकट पर जीत कर महाराष्ट्र की विधानसभा में जाया करते थे .

बंगाल को आतंक का अड्डा बना देना चाहता था एजाज.. गिरफ्तारी से पर्दाफाश हुआ नकली सेक्यूलरिज्म का जिसे कहते हैं तुष्टीकरण

अब सवाल ये खड़ा हो रहा है कि आख़िरकार पवार के साथ कौन ? कभी शरद पवार ने साध्वी प्रज्ञा और कर्नल पुरोहित के नाम पर खुल कर हिन्दू आतंकवाद और भगवा आतंकवाद कहा था जिसकी उनके हिसाब से भले ही राजनैतिक सोच रही होगी लेकिन समाज के कानो में वो शब्द पिघले शीशे की तरह चुभे थे और उसके बाद के चुनावो में भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना के अलग अलग लड़ने के बावजूद उनकी पार्टी की बुरी तरह से हार हुई थी और भाजपा शिवसेना ने मिल कर सरकार बना ली थी ..

उत्तर से पूरब तक हर तरफ सफाई.. अब असम में अलर्ट हैं अर्धसैनिक बल और पूरी पुलिस फ़ोर्स पुलिस. कल आयेगा बड़ा फैसला

अभी हाल में ही NCP के 6 बार के विधायक ने शिवसेना ज्वाइन की थी तो ये माना जा रहा था कि NCP ने एक बड़ा आधार खो दिया था और अब उनके लिए एक और बुरी खबर आई है . मालेगांव से NCP के पूर्व विधायक और शरद पवार के करीबी माने जाने वाले मुफ्ती इस्माइल ने भी शरद पवार का साथ छोड़ दिया है . दावा तो ये भी किया जा रहा है कि वो 20 पार्षदों को ले कर शरद पवार की पार्टी से अलग हुए हैं और उन्होंने हजारो की भीड़ में ओवैसी का साथ पकड़ लिया है .

अयोध्या मामले में बाबर की तरफ से श्रीराम के खिलाफ खड़ा हुआ है जो हिन्दू वकील उसको मिल रहे हैं बुजुर्गो से ऐसे संदेश

NCP के इस कद्दावर मुस्लिम नेता मुफ्ती इस्माइल को ओवैसी के साथ मिलाने में सबसे बड़ी भूमिका सम्भाजी नगर के वारिस पठान ने निभाई है और एक रंगारंग कार्यक्रम में वो ओवैसी के साथ आने का एलान कर दिए.. इस कदम के बाद अब कई अन्य मुस्लिम नेताओं के भी शरद पवार का साथ छोड़ने की अटकलें लगाईं जाने लगी हैं और फिलहाल तो आम जनता में ये आवाज उठने लगी है कि अब आखिर शरद पवार के साथ कौन है ? देखिये वो वीडियो जो शरद पवार के इस नेता के ओवैसी के साथ जाने का दावा कर रहा है –

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं–

Share This Post