जानिए कौन है वो मुस्लिम महिला जो लड़ेंगी उन लोगो के खिलाफ जो कहते है – ‘भाजपा एंटी मुस्लिम’


जहाँ इस्लाम समुदाय के लोग एक तरफ इस्लाम फ़ैलाने के नए नए तरीके आजमाने में लगे हैं वही कुछ ऐसे भी हैं जो इसके सख्त खिलाफ है। तीन तलाक बोल कर मुस्लिम महिलाओं को बिन कागजी कार्यवाही के कई सालों से ये रिवास इस्लाम समुदाय में चलता आ रहा है जिसको मद्दे नज़र रखते हुए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी ने मुस्लिम महिलाओं को इस जाल से बाहर निकालने में मदद कर तीन तलाक को क़ानूनी तौर पर जोड़ दिया गया। मोदी जी के इस फैसले से परेशान कई मुस्लिम महिलाओं ने उनका ख़ुशी जताते हुए इस फैसले का समर्थन किया। वही इलाहबाद की मुस्लिम महिला उनके इस फैसले से अपना पिता कहा जिसके बाद वह भाजपा पार्टी में शामिल हुई और अब कमल निशान पर चुनाव भी लड़ रही है।


 

इनका मानना है कि पिछले चार सालों में बड़ी तादात में मुस्लिम बीजेपी को वोट कर रहे हैं। इलाहाबाद में यह पहला मौका है जब कोई मुस्लिम महिला बीजेपी के टिकट पर चुनाव मैदान में हैं। तक़रीबन 4 साल पहले ही यह भाजपा से जुड़ी हुई हैं। चुनाव में यह नगर निगम के वार्ड नंबर उनयासी दायरा शाह अजमल से चुनाव का टिकट जीती हैं। जिस वार्ड से यह चुनाव लड़ रही वह इलाका आधे से ज्यादा मुस्लिम वोटर्स का है और यह इस वार्ड में पहली बार कमल खिलाने की कोशिश में है।

चुनाव से पहले प्रचार करने के दौरान वह मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक जैसे ठोस कदम लेकर महिलाओं के बीच बराबरी को लेकर जाग्रुकता फैला रही है. वही पुरुषों के बीच धर्म विवाद को ख़त्म करने के लिए प्रचार करते हुए कहती है कि भाजपा सरकार इन मुहिमों के तहत हम सबकी यह सोच नष्ट करदी है।

कमर नाम की यह महिला ज्यादा ना पढ़े लिखे होने के बावजूद भी ऐसी सोच रखती हैं। आपको बतादे कमर एक संस्था से भी जुड़ी हुई हैं और महिलाओं को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक भी करती हैं। यह उम्मीदवार मुस्लिमों के बीच बीजेपी को अछूत मानने की धारणा को गलत साबित करने की मुहिम में जुटी हुई है।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...