Breaking News:

समय के साथ बदल गये कांग्रेस शासित प्रदेशो में गौ माता के लिए विचार.. कमलनाथ हुए गौ भक्त और गाय को बोला “माँ”. सत्य साबित हुए वीर सावरकर

कभी कांग्रेस शासित सरकार कर्नाटक में बनते ही वहां गौ हत्या को जिस प्रकार से बढावा मिला था वो सबने देखा था . उसके बाद वहां के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने जैसे मांस खा कर मन्दिर में घुसे थे वो भी विवाद का विषय बना था .. गौ रक्षको के खिलाफ जिस प्रकार से कांग्रेस के वरिष्ठतम मल्लिकार्जुन खड्गे ने संसद में दहाड़ लगाईं थी उसको भी अभी कई सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर वायरल किया जाता है .. लेकिन अब वही कांग्रेस दिखाई दे रही है बदले अंदाज़ में.

विदित हो कि कांगेस शासित मध्य प्रदेश जो इस समय कमलनाथ और सिंधिया की लड़ाई में उलझा हुआ था , वहां पर गौ माता के लिए अभूतपूर्व सम्मान देखने को मिल रहा है . अगर ट्विटर को देखा जाय तो ये कहना गलत नहीं होगा कि खुद मुख्यमंत्री कमलनाथ गौ भक्त हो गये हैं और उन्होंने गौ माता के लिए जो प्रेम , सम्मान और अपनापन दिखाया है वो किसी बड़े गौ रक्षक से कम नहीं है.. कमलनाथ की गौ भक्ति की चर्चा हर कहीं हो रही है और मध्य प्रदेश में गौ हत्या पर पूर्ण प्रतिबन्ध की आहट भी दिखने लगी .

कमलनाथ ने अपने ट्विटर के माध्यम से कहा है कि – गौमाता के संवर्धन व संरक्षण का निर्णय हमने प्राथमिकता से इसलिए लिया कि गौमाता हमारे लिये आस्था व गौरव का प्रतीक है। हम उसे सड़कों पर तड़पता हुआ नही देख सकते। इसलिए हमने एक हज़ार गौशालाएँ बनाने का निर्णय लिया। हमारे लिये गौमाता सियासत नही आस्था का विषय है।. आगे उन्होंने कहा कि – केंद्रीय पशुपालन राज्य मंत्री की एक हज़ार गौशालाएँ खोलने के राज्य सरकार के निर्णय की खुले मन से तारीफ़ के लिये उनका आभार।

इसके आगे बोलते हुए उन्होंने लिखा है कि – कई प्रमुख संतजन भी हमारे इस निर्णय की सराहना कर चुके है। इससे हमें भविष्य में गौमाता के संरक्षण के लिये और कार्य करने की प्रेरणा मिलती है। हमारी सरकार गौवंश के संवर्धन व संरक्षण के लिये सदैव प्रतिबद्ध है और इस दिशा में निरंतर कार्य करती रहेगी।  आम जनमानस  ये संदेश अब स्वत: जा रहा है कि जो  बातें वीर सावरकर ने कभी कहीं थी वो अब शत प्रतिशत सत्य साबित हो रही हैं और हिन्दू वोट बैंक के लिए सुरेश चव्हाणके जी का किया गया पहला जनसंसद भी अब सार्थकता की  तरफ बढ़ रहा है .

Share This Post