Breaking News:

जिस पार्टी के सांसद पर पति की हत्या का आरोप लगा उसी पार्टी के साथ मिल कर भाजपा के खिलाफ लड़ रही थीं चुनाव. अब टिकट भी कटा

ये उस समय की बात है जब एक घटना ने न सिर्फ प्रयागराज को बल्कि पूरे उत्तर प्रदेश को हिला कर रख दिया था .. प्रयागराज में अतीक अहमद की दादागीरी को चुनौती देने वाला एकमात्र छात्रनेता निकला था जिसका नाम था राजू पाल.. उस समय अतीक अहमद मुलायम सिंह यादव के सबसे करीबियों में गिने जाते थे और उनके भाई अशरफ अहमद उनकी दादागीरी की सारी बागडोर अपने हाथो में ले कर चला करते थे . राजू पाल ने अतीक के साम्राज्य को हिला कर रखा था ..

“हरा संक्रमण” का फिर से आया नाम… यही नाम कभी लिया करते थे बाला साहेब ठाकरे

फिर वो मायावती की पार्टी से जुड़ा और बहुजन समाज पार्टी से विधायक बन कर आया था.. फिर राजू पाल की हत्या ऐसे दुस्साहसिक रूप में हुई जिसकी कोई कल्पना भी नहीं कर सकता था . अस्पताल तक में जा कर गोलियां चलाई गयी थी और तब यही पूजा पाल विवाह कर के राजू पाल के घर आई थीं . उस समय पूजा पाल ने दुनिया के आगे अपने चले गये सुहाग का वास्ता दिया था और सवाल किया था कि उनको विधवा कर देने वालो के खिलाफ संघर्ष में क्या जनता उनका साथ देगी .

सत्य साबित हो रहे सावरकर.. नामांकन से पहले सोनिया गांधी ने की हिन्दू मंदिर में पूजा जबकि कांग्रेस ने कभी हिन्दुओं को बताया था आतंकी

इतने के बाद फिर पूजा पाल चुनाव लड़ी थीं और हार का सामना पड़ा था , उनको हराने वाली समाजवादी पार्टी ही थी. तब ऐसा लगता था कि पूजा पाल और समाजवादी पार्टी नदी के वो २ किनारे हैं जो कभी भी मिल नहीं सकते हैं . लेकिन इस चुनाव में वही पूजा पाल एक बार फिर से उसी समाजवादी पार्टी के साथ हाथो में हाथ डाल कर खड़ी हो गईं जिसको वो अपने पति की दुस्साहसिक हत्या का जिम्मेदार माना करती थीं . ये हर किसी के लिए अप्रत्याशित था, ख़ास कर उनके लिए जो पूजा पाल के साथ खुल कर खड़े हुए थे अतीक अहमद की दादागीरी के खिलाफ और अंत समय तक उनके साथ रहे थे .

11 अप्रैल – बलिदान दिवस, बलिदानी खाज्या नायक. मंगल पाण्डेय जैसा ही एक महायोद्धा जिसने ब्रिटिश आर्मी में होते हुए की बगावत और प्राप्त की अमरता

अब उन्ही पूजा पाल की दावेदारी सपा बसपा गठबंधन ने उन्नाव से खत्म कर दी है . उनका उन्नाव से मिला टिकट भी निरस्त कर दिया गया है .  भाजपा उम्मीदवार साक्षी महाराज के खिलाफ अखिलेश यादव ने अब पूर्व मंत्री अरुण शंकर शुक्ला उर्फ अन्ना महाराज को मैदान में उतारा है।इसके पूर्व पूजा पाल के टिकट मिलते ही जनपद में सपा की राजनीति में खेमे बंदी शुरू हो गई थी। एक समय 5-5 विधायक देने वाले जनपद के प्रत्याशी पूजा पाल को पूर्व विधायकों का समर्थन नहीं मिल रहा था। सपा जिला महासचिव राजेश यादव ने बताया कि इलाहाबाद के पूर्व विधायक पूजा पाल का टिकट काट दिया। उनकी जगह पर अन्ना महाराज को टिकट दिया गया है।

हिन्दू नववर्ष के सुआगमन तथा चैत्र नवरात्रि पर श्री सुरेश चव्हाणके जी की तरफ से हार्दिक शुभकामनाएं एवं समस्त सनातनियों को शुभ सन्देश

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511

Share This Post