दलित – मुस्लिम एकता को धार देंगी मायावती ?.. जानिये किसे बनाया उत्तर प्रदेश का नया अध्यक्ष

इसी राह पर हैदराबाद से पार्टी चला कर पूरे भारत में पैर फैला रहा ओवैसी भी है .. ये वो राह है जो कांटो भरी कहा जा सकती है क्योकि आये दिन कोई न कोई ऐसे मामले देखने को मिल जाया करते है जो इन नेताओं के तमाम दावों पर सवालिया निशान लगा जाती हैं . दिवंगत सुषमा स्वराज जी के अंतिम दर्शन करने के बाद व धारा 370 पर मोदी सरकार के साथ जनभावनाओं का समर्थन करने वालीं मायावती ने इस बार चला है अपना नया दांव और वो दांव है दलित मुस्लिम एकता का .

ध्यान देने योग्य है कि मायावती ने उत्तर प्रदेश बहुजन समाज पार्टी का अध्यक्ष एक मुस्लिम चेहरे को नियुक्त कर दिया है . बहुजन समाज पार्टी ने बुधवार को संगठन में भारी फेरबदल करते हुये पूर्व राज्यसभा सांसद मुनकाद अली को पार्टी की उत्तर प्रदेश इकाई का अध्यक्ष नियुक्त किया है. अपने इस कदम के बाद ये माना जा रहा है कि वो समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के मुस्लिम वोटो में सेंध मारेंगी और आगामी विधानसभा चुनावो में भाजपा को टक्कर देने वाली विपक्षी पार्टी के रूप में  सामने आएँगी .

बसपा द्वारा बुधवार को जारी एक बयान में कहा गया कि बहुजन समाज पार्टी, देश व ”सर्वजन हिताय व सर्वजन सुखाय की पार्टी है और राज्य की प्रदेश स्तरीय बसपा संगठन की कमेटी में कुछ जरूरी तब्दीली की गई है। बयान में कहा गया कि बसपा के जौनपुर के सांसद श्याम सिंह यादव को लोकसभा में नेता बनाया है जबकि रितेश पाण्डेय को लोकसभा में उप नेता नियुक्त किया गया है। गिरीश चन्द्र जाटव लोकसभा सांसद पार्टी के लोकसभा में ”मुख्य सचेतक बने रहेंगे।

Share This Post